क्या आपको भी कोरोना काल में जाना पड़ रहा अस्पताल, इन टिप्स की मदद से रखें खुद को सुरक्षित

कोरोना का बढ़ता कहर आमजन की चिंता को बढ़ाने का काम कर रहा हैं। हर दिन देश में कई हजारों लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं जिससे बाहर जाना किसी खतरे से खाली नहीं हैं। ऐसे में सभी को हिदायत दी जा रही हैं कि जरूरत हो तभी घर से बाहर निकलें। खासतौर से डॉक्टर के क्लीनिक या अस्पताल तभी जाए जब बहुत ज्यादा जरूरी हो। अगर आपको भी किसी कारण से अस्पताल जाना पड़ रहा हैं तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत हैं ताकि आप कोरोना संक्रमण से बचें रह सकें। तो आइये जानते हैं उन सामान्य सुरक्षा नियमों के बारे में ताकि आप अस्पताल से कोविड-19 बीमारी लेकर घर ना जाएं।

– डॉक्टर के पास जाने से पहले अपॉइंटमेंट ले लें, क्लीनिक या अस्पताल जाकर लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार करना आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा कदम नहीं होगा। अपॉइंटमेंट लेने के लिए फोन या इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा सकता है और निर्धारित समय के अनुसार ही क्लीनिक या अस्पताल में पहुंचें।

 

 

– घर से बाहर जाते समय मास्क पहनना ना भूलें और अपने साथ अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर लेकर जाएं। हो सके तो ग्लव्ज पहनकर जाएं और अपनी पीने के पानी की बोतल साथ लेकर जाएं।

– मरीज के साथ एक से ज्यादा स्वस्थ व्यक्ति क्लीनिक या अस्पताल ना जाएं। खासतौर पर जिन लोगों को खांसी-जुकाम जैसे लक्षण हों, उन्हें घर पर ही रहना चाहिए। अगर आप गर्भवती हैं, बुजुर्ग हैं या बच्चे हैं तो बहुत जरूरी होने पर ही अस्पताल जाएं।

– अगर अपने वाहन की बजाय सार्वजनिक वाहन से जा रहे हैं तो बेहतर होगा कि आप कैशलेश भुगतान करें, ताकि लेन-देन की वजह से संक्रमण का खतरा ना हो।

– क्लीनिक या अस्पताल पहुंचने पर किसी भी अन्य व्यक्ति से कम से कम 2 फीट की दूरी बनाकर रखें। डॉक्टर से मिलने से पहले और बाद में साबुन, पानी से अच्छी तरह से हाथ धोएं। अस्पताल के सुरक्षा मानकों का पूरी तरह से पालन करें।

 

– अगर आपको बुखार है तो किसी ओपीडी में जाने की बजाय फीवर क्लीनिक में जाएं, जो लगभग हर अस्पताल में मौजूद हैं। ऐसा करने से आप खुद और अन्य को कोविड-19 के संक्रमण से बचा सकते हैं।

– डॉक्टर से मिलकर अपनी अगली अपॉइंटमेंट के बारे में भी बात कर लें। संभव हो तो फॉलोअप के लिए आपको क्लीनिक या अस्पताल ना जाना पड़े और टेली-कंसल्टेशन से डॉक्टर की सलाह लें।

– कोशिश करें कि अस्पताल या किसी भी सार्वजनिक स्थल पर टॉयलेट का इस्तेमाल ना करें। घर में भी फ्लश करने से पहले टॉयलेट बाउल का लिड बंद कर दें।

– वॉल्व वाले मास्क ना पहनें, इनकी जगह घर में बने या मेडिकल स्टोर से खरीद कर तीन प्लाई वाले मास्क का उपयोग करें।

– घर पहुंचकर दरवाजे के बाहर ही अपने जूते उतार दें। अगर आपने दरवाजे का हैंडल या जो भी हिस्सा छुआ है उसे कीटाणु रहित करें। अपने डिस्पोजेबल मास्क को सुरक्षित तरीके से डिस्पोज कर दें। कपड़े के मास्क और अन्य कपड़ों को तुरंत बाथरूम में उतारकर उन्हें गर्म पानी में डाल दें और उसमें डिटरजेंट डालें। अब स्वयं भी साबुन और गर्म पानी के साथ अच्छी तरह से स्नान करें।

Check Also

यदि पति इन 3 कामो को करता है तो हमेशा वफादार रहती है पत्नी, कभी नहीं आता किसी गैर मर्द के बारें में ख्याल…जानिए

रिश्तो के बीच वफ़ादारी होना बेहद जरुरी है खासकर पति और पत्नी का रिश्ता तो …