कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए पटना AIIMS में बच्चों की जांच शुरू

पटना: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए कोवैक्सीन के टीकों के बच्चों में परीक्षण के लिए, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में छह से 12 साल के बच्चों की जांच शुरू हो गई. पटना एम्स के कोविड-19 प्रभारी डॉक्टर संजीव कुमार ने बताया कि शिशु रोग विशेषज्ञों ने छह से 12 साल के बच्चों की विभिन्न जांचे शुरू कर दी हैं.

टीके के परीक्षण के लिए 50 से अधिक बच्चों का अबतक पंजीकरण हो चुका है और शीघ्र ही कोवैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा. उल्लेखनीय है कि 12 से 17 साल की उम्र तक के 87 बच्चों ने क्लिनिकल ट्रायल के लिए पंजीकरण कराया था, एक जून से यह प्रक्रिया शुरू हो गई.

बिहार में लॉकडाउन खत्म

बता दें कि बिहार सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण पर रोकथाम के मद्देनजर पांच मई से लागू लॉकडाउन को खत्म कर दिया है. हालांकि रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को ट्वीट कर इस बारे में बताया.

मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ”लॉकडाउन से कोरोना वायरस के संक्रमण में कमी आई है. अतः लॉकडाउन खत्म किया जाता है, लेकिन शाम सात बजे से सुबह पांच बजे तक रात्रि कर्फ्यू जारी रहेगा.”

बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर चार मई को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में प्रदेश में पांच मई से 15 मई तक लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया गया था. लेकिन मामलों में कमी नहीं आने पर पहले 25 मई तक लॉकडाउन बढ़ाया गया और फिर इसमें विस्तार देते हुए लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया गया. इसके बाद लॉकडाउन की अवधि आठ जून तक बढ़ाने का फैसला किया गया.

बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण सोमवार को 43 और व्यक्तियों की मौत होने से संक्रमण से अब तक 5424 लोगों की जान गयी है. प्रदेश में वर्तमान में कोविड 19 के 8230 मरीज उपचाराधीन हैं तथा अब तक 713879 लोग संक्रमित हुए हैं.

NEWS KABILA

Check Also

फिर ख्वाब डुबोने आ गया सैलाब सूबे का:मुजफ्फरपुर में ये है रामवृक्ष बेनीपुरी का गांव; बाढ़ से बचने के लिए छतों पर बनाई झोपड़ी, 3 महीने यहीं कटेंगे

  बाढ़ से बचने की तैयारी में लोग मकानों की छत पर झोपड़ी बनाने लगे …