कोविन पोर्टल पर नया बदलाव:1000+ बार वैक्सीन स्लॉट सर्च करने और 50 OTP जनरेट करने वाले यूजर्स को ब्लॉक करेगा कोविन; 24 घंटे बाद ही एक्टिव हो पाएंगे

 

कोरोना वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन, स्लॉट बुकिंग और सर्टिफिकेट के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कोविन पोर्टल पर बढ़ते दबाव को कम करने के लिए सरकार कुछ अहम बदलाव करने जा रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, पोर्टल पर 24 घंटे में 50 से ज्यादा OTP जनरेट करने वालों और वैक्सीन स्लॉट के लिए 1 हजार से ज्यादा बाद सर्ज करने वाले यूजर्स को ब्लॉक किया जाएगा। ऐसे यूजर्स अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 24 घंटे बाद ही दोबारा कोविन पर स्लॉट सर्च या लॉगिन कर सकेंगे।

पोर्टल से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि ऐसे यूजर्स जो 15 मिनट के अंदर 20 या उससे ज्यादा स्लॉट सर्च करने की कोशिश करते हैं, उन्हें सिस्टम तत्काल लॉग-आउट कर देगा। उन्होंने बताया कि पोर्टल पर बिना लॉगिन किए भी स्लॉट की उपलब्धता देखने का ऑप्शन दिया गया है। ऐसे में यूजर को लॉगिन के बाद ज्यादा सर्चिंग करने की जरूरत नहीं है। हमें सुरक्षा और पोर्टल पर लोड कम करने के उद्देश्य से यह कदम उठाया है।

सर्टिफिकेट में करेक्शन भी करा सकेंगे
इससे पहले केंद्र सरकार ने कोविन पोर्टल पर एक नया फीचर जोड़ा था। इससे अगर वैक्सीन लगवाने वाले व्यक्ति के वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में किसी तरह की गलती हो गई है, तो उसे कोविन पोर्टल के जरिए ठीक किया जा सकेगा। इसके जरिए नाम, डेट ऑफ बर्थ या जेंडर से जुड़ी गलतियों को सुधारा जा सकेगा।

इन स्टेप्स के जरिए कर सकेंगे करेक्शन
1.
सबसे पहले http://cowin.gov.in पर जाना होगा।
2. इसके बाद वैक्सीन लगवा चुके व्यक्ति को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से लॉग इन करना होगा।
3. ‘रेज एन इश्यू’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
4. नाम, ईयर ऑफ बर्थ और जेंडर में करेक्शन का ऑप्शन आएगा। इस पर टिक करके करेक्शन किया जा सकेगा।
(एक मोबाइल से मल्टीपल वैक्सीनेट मेंबर्स के करेक्शन के लिए मेंबर की डीटेल को चुनना होगा)

कोविन ऐप के 5 मॉड्यूल
यह ऐप वैक्सीनेशन की प्रोसेस, एडमिनिस्ट्रेटिव एक्टिविटीज, टीकाकरण कर्मियों और उन लोगों के लिए एक मंच की तरह काम करता है, जिन्हें वैक्सीन लगाई जानी है। इसमें 5 मॉड्यूल दिए गए हैं। जिनमें प्रशासनिक मॉड्यूल, रजिस्ट्रेशन मॉड्यूल, वैक्सीनेशन मॉड्यूल, लाभान्वित स्वीकृति मॉड्यूल और रिपोर्ट मॉड्यूल शामिल हैं।

  • प्रशासनिक मॉड्यूल: वे लोग जो वैक्सीनेशन इवेंट का संचालन करेंगे। इस मॉड्यूल के जरिए वे सेशन तय कर सकते हैं, जिसके जरिए टीका लगवाने के लिए लोगों और प्रबंधकों को नोटिफिकेशन के जरिए जानकारी मिलेगी।
  • रजिस्ट्रेशन मॉड्यूल: उन लोगों के लिए होगा जो टीकाकरण कार्यक्रम के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवाएंगे।
  • वैक्सीनेशन मॉड्यूल: उन लोगों की जानकारियों को वैरिफाई करेगा, जो टीका लगवाने के लिए अपना रजिट्रेस्शन करेंगे। इस बारे में स्टेटस भी अपडेट करेगा।
  • लाभान्वित स्वीकृति मॉड्यूल: इसके जरिए टीकाकरण के लाभान्वित लोगों को मैसेज भेजे जाएंगे। इससे क्यूआर कोड भी जनरेट होगा और लोगों को वैक्सीन लगवाने का ई-सर्टिफिकेट भी मिलेगा।
  • रिपोर्ट मॉड्यूल: इसके जरिए टीकाकरण कार्यक्रम से जुड़ी रिपोर्ट तैयार होंगी। जैसे, टीकाकरण के कितने सेशन हुए, कितने लोगों को टीका लगा, कितने लोगों ने रजिस्ट्रेशन के बावजूद टीका नहीं लगवाया आदि।

 

खबरें और भी हैं…
NEWS KABILA

Check Also

छत्तीसगढ़ में टीकाकरण टीम के साथ हाथापाई, सब इंजीनियर ने दर्ज कराई शिकायत

रायपुर : सरगुजा संभाग मुख्यालय से लगे ग्राम लब्जी में ग्रामीणों की भीड़ ने वैक्सीनेशन …