कोरोना केस बढ़ने पर अब स्कूलों पर पाबंदी:शहरों से सटे ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में भी 9वीं तक की कक्षाएं बंद करने की तैयारी, अभी सिर्फ शहरों के स्कूल बंद हैं

काेरोना केस बढ़ने के कारण शहरों में 9वीं कक्षा तक स्कूल बंद हैं। अब शहरी सीमा के पास ग्रामीण स्कूलों को भी बंद करने की तैयारी है। (प्रतीकात्मक तस्वीर) - Dainik Bhaskar

काेरोना केस बढ़ने के कारण शहरों में 9वीं कक्षा तक स्कूल बंद हैं। अब शहरी सीमा के पास ग्रामीण स्कूलों को भी बंद करने की तैयारी है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

  • चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग ने कहा- शहरों से सटे ग्रामीण इलाकों के स्कूल भी बंद होने चाहिए

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार अब शहरों से सटे ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में भी एक से 9वीं तक की कक्षाओं को बंद करने पर विचार कर रही है। मौजूदा गाइडलाइन में शहरी क्षेत्र के पहली से 9वीं तक स्कूल बंद हैं। लेकिन ग्रामीण इलाकों के स्कूल खुले हैं। अब शहरों की परिधि में आने वाले ग्रामीण स्कूलों में भी पहली से 9वीं तक की कक्षाओं के विद्यार्थियों को नहीं बुलाने पर विचार हो रहा है। इस पर सरकार जल्द फैसला करने वाली है। गृह विभाग मुख्यमंत्री की मंजूरी के बाद जल्द आदेश जारी करेगा।

सरकार ने दो दिन पहले नई गाइडलाइंस जारी कर सिनेमा हॉल, क्लब, स्वीमिंग पूल को बंद करने के आदेश दिए थे। साथ ही शहरों क्षेत्रों में पहली से 9वीं कक्षा और कॉलेजों में यूजी-पीजी फाइनल को छोड़ बाकी कक्षाओं को बंद करने के आदेश दिए थे। अब सामने आया है कि शहरों के पास के गांवों में ऐसे कई स्कूल हैं जहां बहुत से बच्चे शहरों से पढ़ने जाते हैं। इस वजह से संक्रमण की आशंका बनी हुई है। सोमवार देर रात मुख्यमंत्री की काेरेाना समीक्षा बैठक में भी इस मुद्दे पर विचार किया गया। चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग ने बैठक में यह मुद्दा उठाया। सीएम के साथ बैठक में मंत्री सुभाष गर्ग ने कहा कि शहरों से सटे हुए ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में शहरी सीमा से बहुत से बच्चे पढ़ने आते हैं। फिलहाल शहरी सीमा में तो 9वीं तक के स्कूल बंद हैं लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में खुले हैं। शहरी सीमा से लगते ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूल भी बंद होने चाहिए, ताकि कोरोना संक्रमण का खतरा कम किया जा सके।

सोमवार को रिकॉर्ड केस सामने आए
राजस्थान में कोरोना अब विकराल रूप लेता जा रहा है। सोमवार को मिले 2429 नए केसों ने इस साल 2021 के साथ ही पिछले साल दिसंबर 2020 में मिले तमाम केसों का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया। सबसे ज्यादा डराने वाली खबर मौत के आंकड़े को लेकर है। सोमवार को पूरे राज्य में 12 लोगों की जान चली गई, जो इस साल में हुई एक दिन की मौत में सबसे ज्यादा है।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

MPPEB:मध्य प्रदेश जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा का रिजल्ट जारी, peb.mp.gov.in के जरिए चेक करें नतीजे

  मध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (MPPEB) ने जेल प्रहरी के पदों पर भर्ती के …