कोरोना का कहर: अमेरिका में 1 लाख के करीब पहुंची मौतों की संख्या, अबतक 4 लाख लोग ठीक हुए

Coronavirus: अमेरिका दुनिया में कोरोना वायरस का कैपिटल बन गया है. यहां महामारी लगातार भयावह रूप लेती जा रही है. शुक्रवार को अमेरिका में 24,187 नए केस सामने आए और 1,286 कोरोना पीड़ितों की मौत हुई है. जबकि इससे एक दिन पहले अमेरिका में 28,175 नए केस आए थे और 1,418 लोगों की मौत हुई थी. पूरी दुनिया के करीब एक तिहाई कोरोना मरीज अमेरिका में ही हैं. यहां 16 लाख से ज्यादा कोरोना से प्रभावित हो चुके हैं. न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी, कैलिफॉर्निया में सबसे ज्यादा मामले देखने को मिल रहे हैं.

 

अमेरिका में अबतक 97,640 लोगों की मौत
वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, अमेरिका में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या शनिवार सुबह तक बढ़कर 16 लाख 45 हजार पार हो गई. वहीं कुल 97,640 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि चार लाख 03 हजार लोग ठीक भी हुए हैं. कुल 6 फीसदी कोरोना संक्रमित लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि 25 फीसदी लोग इस बीमारी ठीक हो चुके हैं.

 

अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में सबसे ज्यादा 367,936 केस सामने आए हैं. सिर्फ न्यूयॉर्क में ही 29,009 लोग मारे गए हैं. इसके बाद न्यू जर्सी में 154,349 कोरोना मरीजों में से 10,986 लोगों की मौत हुई. इसके अलावा मैसाचुसेट्स, इलिनॉयस भी सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं.

 

अमेरिका में करीब 3.9 करोड़ लोगों की नौकरी गई
अमेरिकी सरकार ने कहा कि कोरोना वायरस संकट के कारण पिछले दो महीनों में करीब 3.9 करोड़ लोगों को नौकरी से निकाल दिया गया है. पिछले सप्ताह 24 लाख से अधिक लोगों ने बेरोजगारी लाभ के लिये आवेदन दिये. यह बताता है कि हाल के दिनों में कोरोना वायरस महामारी और उसकी रोकथाम के लिये जारी ‘लॉकडाउन’ से कितनी संख्या में लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा है. देशव्यापी बंद से आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप हो गयी हैं.

 

श्रम विभाग के आंकड़ों के अनुसार अब तक 3.86 करोड़ लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा है. इसके अलावा 22 लाख लोगों ने नये संघीय कार्यक्रम के तहत सहायता मांगी है. यह कार्यक्रम स्व-रोजगार करने वाले, ठेकेदारों और अस्थायी कमचारियों के लिये है जो अब पहली बार बेरोजगारी लाभ लेने के पात्र हैं.

Check Also

कोरोना का असरः ठीक होने के बाद भी सामान्य नहीं हो सकेंगे मरीज, महीनों रहेगी थकान और सांस लेने में तकलीफ

लंदन. दुनिया भर में कोरोना का संकट जारी है। वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए …