कोरोना काल:थम रहा काेराेना, निजी अस्पतालाें में कुल बेड के 10% भी मरीज नहीं; रिम्स में अगले सप्ताह शुरू हाेगी ओपीडी

ये लापरवाही ठीक नहीं...कोविड गाइडलाइन का पालन करा रहे जवानों के मास्क मुंह के बजाय गले में - Dainik Bhaskar

ये लापरवाही ठीक नहीं…कोविड गाइडलाइन का पालन करा रहे जवानों के मास्क मुंह के बजाय गले में

  • शहर के दर्जन भर प्रमुख अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या 100 से भी कम, रिम्स में 127 इलाजरत

कोरोना का कहर धीरे-धीरे थम रहा है। गंभीर मरीजों के मिलने की संख्या भी कम हो गई है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि शहर के दर्जन भर प्रमुख अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या 100 से कम हो चुकी है। यह राहत देने वाली बात है। बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रिम्स में बेड बढ़ाकर 1206 कर दिए गए थे। अब यहां कुल 127 रोगी ही इलाजरत है। इसमें ज्यादातर मरीजों की स्थिति सामान्य है।

सदर अस्पताल के 318 बेड में 308 बेड खाली हैं। यहीं नहीं रोजाना एक माह पहले जहां 1000 से ज्यादा संक्रमित मिलते थे, अब इनकी संख्या घटकर 50 से भी कम हो चुकी है। इतनी राहत के बाद भी अस्पतालों में स्थिति सामान्य नहीं हो रही। ओपीडी अबतक बंद हैं। कुछ प्राइवेट अस्पतालों में ओपीडी संचालित हैं, लेकिन जिनकी निर्भरता रिम्स पर है, वे अब भी बेहतर इलाज के लिए इंतजार कर रहे हैं। हालांकि, राहत की बात है कि रिम्स में अगले सप्ताह से ओपीडी की सेवा शुरू हो जाएगी।

आइसोलेशन सेंटर संचालित

बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों के इलाज के लिए खेलगांव में 640 बेड का आइसोलेशन सेंटर रांची जिला प्रशासन ने बनाया था। इस सेंटर के 320 बेड वाले एक ब्लॉक काे कोरोना के पीक समय में रखा गया था। जबकि, दूसरे ब्लॉक में एक भी मरीज भर्ती नहीं हुए। वर्तमान में यहां कोई मरीज नहीं हैं। हालांकि, सेंटर को बंद नहीं किया गया। दूसरे राज्य से आने वाले मजदूरों को रखने के लिए खेलगांव में 360 बेड का क्वाॅरेंटाइन सेंटर बनाया गया है। ट्रेन से दूसरे जिलों से आने वाले मजदूरों को यहां रखा जाता है। दूसरे दिन संबंधित जिला की बस से उन्हें वापस भेजा जा रहा है। जबकि, रांची के अन्य प्रखंडों में रहने वालों को उनके प्रखंड में बने क्वाॅरेंटाइन सेंटर में रखने की व्यवस्था है।

रिम्स में सामान्य सर्जरी भी करने की चल रही तैयारी

रिम्स के पीआरओ डॉ. डीके सिन्हा ने बताया कि कोरोना की स्थिति अब धीरे-धीरे सामान्य हाे रही है। अगले सप्ताह से ओपीडी सेवा पहले की तरह शुरू हो जाएगी। मरीजों को भर्ती कर उनका इलाज किया जाएगा। सामान्य सर्जरी भी शुरू होगी।

सदर अस्पताल के 318 बेड के कोविड वार्ड में 10 मरीज

इधर, सदर अस्पताल में भी एक सप्ताह के अंदर ओपीडी शुरू होने की संभावना है। सदर में 318 बेड के कोविड अस्पताल में सिर्फ 10 मरीज भर्ती हैं। उपाधीक्षक के अनुसार, जल्द सामान्य रोगियों के लिए अस्पताल की सेवा शुरू की जाएगी।

स्लॉट बुकिंग में परेशानी, ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर शहर के लोग ले रहे टीका

वैक्सिनेशन को लेकर भी ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार की ओर से रियायत दी गई है। यहां ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाने के कारण लोग टीका लेने नहीं पहुंच रहे थे। ऐसे में ऑनस्पाॅट रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था की गई है। इतनी रियायत के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण की रफ्तार तो बढ़ी है। लेकिन, टीका लेने वालों में ग्रामीणों के बजाय ज्यादातर शहरी क्षेत्र के लाेग पहुंच रहे हैं।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

झारखंड में मानसून की बारिश:रांची में पिछले 24 घंटे में 37.4 मिमी तो दुमका सबसे ज्यादा 94 मिमी बारिश हुई, अगले 4 दिनों तक मौसम में परिवर्तन नहीं

  मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र एक …