कोटा : चंबल नदी पार करते नांव में सवार 50 लोग डूबे, 14 की मौत की पुष्टि

कोटा : कोटा के ईटावा उपखंड में बॉर्डर पर स्थित खातौली क्षेत्र के गोठड़ा गांव में बुधवार सुबह 50 सवारियों से खचाखच भरी नाव चंबल नदी में डूब गयी। हादसे के तुरंत बाद कई ग्रामीण डूबते लोगों को बचाने के लिए पानी में भी कूदे, मौके पर एसडीआरएफ की रेस्क्यू टीम भी पहुंच गयी है। बचाव कार्य जारी है, शव निकाले जाने के बाद कलेक्टर 14 लोगों की मौत की पुष्टि कर चुके हैं, जबकि मृतकों का आंकड़ा बढ़ने की आशंका है।

नाव में 20 से अधिक महिलाएं और 12 से अधिक बच्चे भी सवार थे। हादसे के समय नाव में ग्रामीणों की मोटरसाइकिलें भी रखी थी। बचाव कार्य में जुटी टीम नदी से 12 बाइक भी निकाल चुकी है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हादसे पर दुख प्रकट करते हुए मृतकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने मृतकों के आश्रितों को 1-1 लाख रूपए आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

नाव में अचानक पानी भरने लगा और नाव अनियंत्रित हो गयी

नदी में डूबने से बचाए गए पीड़ित और चश्मदीदों ने बताया कि नाव में 50 से अधिक लोग सवार थे। ग्रामीण गोठड़ा गांव में चंबल नदी पार कर रहे थे। अचानक नाव में पानी भरने लगा और नाव असंतुलित हो गयी। देखते ही देखते नाम पानी में डूब गयी। नाव को डूबता देखकर सवार ग्रामीण नदी में कूद गए, जो तैरना जानते थे, वे तो नदी से बाहर आ गए, लेकिन कई सवारियां पानी में डूब गयीं।

दलदल होने से रेस्क्यू में आ रही समस्या

चंबल नदी में जिस जगह नाव डूबी वहां पानी की गहरायी करीब 40 से 45 फीट है। नदी में काफी ज्यादा दलदल है, ऐसे में रेस्क्यू टीम को बचाव कार्य में काफी समस्या आ रही है। गोताखोर ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर गहरे पानी में जा रहे हैं, ताकि गहरायी में डूबे लोगों को निकाला जा सके।

Check Also

प्रधानमंत्री ने कहा- जब भारत मजबूत था तो किसी को सताया नहीं; जब मजबूर था, तब किसी पर बोझ नहीं बना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को तीसरी बार संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) की 75वीं बैठक …