कॉफी पीने से होंगे सेहत को कई फायदे, पढ़िए ज़रूर

अधिकतर लोग कैफीन या कॉफी का अधिक सेवन करते हैं, लेकिन उन्हें फिर भी उसके सेवन से होने वाले फायदों के बारे में जानकारी नहीं होती है. ऐसे में आज हम आपको कॉफी के सेवन से होने वाले कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप शायद अब तक अंजान होंगे.

डिमेंशिया से बचाए

एक नई रिसर्च के मुताबिक, सुबह की एक कप कॉफी ना सिर्फ आपको जगाती है, बल्कि ये डिमेंशिया से भी बचाती है. बता दें कि कैफीन से ब्रेन में मौजूद एंजाइम्स को पॉवर मिलती है, साथ ही ये न्यूरोंस को प्रोटेक्ट करते हैं. इसके अलावा मिसफोल्डर प्रोटीन से फाइट करने में मदद करता है.

डिप्रेशन के खतरे को करे कम

हार्वड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की एक रिसर्च में सामने आया था कि कॉफी ड्रिंकर्स में सोसाइड करने का रिस्क कम होता है. यानी जो महिलाएं एक दिन में 4 या इससे अधिक कॉफी पीती हैं, उनमें 20 प्रतिशत डिप्रेशन का खतरा कम रहता है.

बढ़ता है फाइबर इंटेक

अक्सर दिनभर में 20 से 38 ग्राम फाइबर लेने की सलाह दी जाती है. बता दें कि एक कप कॉफी में 1.8 ग्राम फाइबर होता है. ऐसे में कॉफी पीना सेहत के लिए अच्छा है.

गंभीर बीमारियों का खतरा करे कम

साल 2015 में एक रिसर्च की गई, जिसके मुता‍बिक दिनभर में कम से कम 4 कप कॉफी पीने से कई गंभीर बीमारियों का खतरा कम होता है. माना जाता है कि न्युरल इंफ्लेमेशन को कॉफी प्रीवेंट करता है, जो बीमारियों के डवलपमेंट के लिए जिम्मेदार है.

फैट बर्न करता है

कैफीन में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो फैट बर्निंग में मदद करते हैं. एक रिसर्च में बताया गया है कि कैफीन 3 से 11 प्रतिशत तक मेटाबॉलिक रेट बूस्ट करती है.

त्वचा के लिए लाभकारी

डिहाइड्रेशन, एलर्जी व आँखो के निचे काले घेरो के सूजन को कम करने में कॉफी मदद करती है. जिन लोगों को काले घेरे है, उनको कॉफी का सेवन जरूर करना चाहिए.

अवसाद दूर करने में सक्षम

बहुत से शोध में कॉफी को एक अच्छा कैफीन माना जाता है. कॉफी व्यक्ति के मूड में बदलाव बहुत जल्दी करता है जिसके वजह से अवसाद की समस्या कम हो जाता है. कॉफी के रोजाना सेवन से बहुत से लोगों में बदलाव देखा गया है. इसके अलावा आत्म हत्या की समस्या भी कम हुई है.

डायबिटीज  के लिए फायदेमंद

कॉफी डायबिटीज के लिए बहुत फायदेमंद है. डायबिटीज से पीड़ित मरीजों को दिन में दो बार रोजाना कॉफी पिने से 50 % तक शुगर का स्तर कम हो जाता है. बस इस बात का ध्यान रहे कॉफी में चीनी ना मिलाये.

पार्किसन के लिए लाभकारी

जो लोग पार्किसन रोग से पीड़ित है, उनको कॉफी का सेवन करना बेहतर इलाज समझा जाता है. ऐसा मानना है की अल्जाइमर रोग का इलाज नहीं है लेकिन कॉफी के सेवन से इसकी कुछ हद तक रोकथाम कर सकते है.

Check Also

Home remedies : फटे हुए दूध के पानी से बनाएं फेस सीरम, ड्राइनेस को दूर कर चेहरे पर लाएगा निखार

ज्यादातर लोग फटे हुए दूध (Sour milk) से पनीर बना लेते है और बचे हुए …