कम पैसों का निवेश करने पर भी अच्छे फायदे के साथ मिलेगी सुरक्षा, जानें इस स्कीम के बारे में

आज के समय में लोगों के पास इतना ज्यादा पैसा नहीं रह गया है कि वे बड़े पैमाने पर निवेश कर ज्यादा फायदा ले सकें। बैंकों में फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) और दूसरी योजनाओं में ब्याज दर लगातार कम होती जा रही है। फिर सरकार की कुछ योजनाओं में कम पैसे के निवेश पर भी अच्छा फायदा लिया जा सकता है। भारतीय जीवन बीमा निगम ( Life Insurance Corporation of India) समय-समय पर ऐसी कुछ योजनाएं निकालती रहती हैं, जिनमें कम राशि का निवेश करके भी अच्छा मुनाफा हासिल किया जा सकता है। इसके साथ ही इसमें सुरक्षा यानी पॉलिसी लेने वाले की असामयिक मृत्यु हो जाने पर परिवार को आर्थिक सहायता मिलती है। जानें इस योजना के बारे में।
(फाइल फोटो)

क्या है यह योजना 
भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) की इस योजना का नाम एलआईसी निवेश प्लस (LIC Nivesh Plus) है। यह सिंगल प्रीमियम वाली नॉन पार्टिसिपेटिंग, यूनिट लिंक्ड और व्यक्तिगत जीवन बीमा पॉलिसी है। इसमें बीमा की अवधि में निवेश का ऑप्शन भी मिलता है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>सम एश्योर्ड &nbsp;की सुविधा</strong><br />
इस योजना को ऑफलाइन के साथ-साथ ऑनलाइन भी लिया जा सकता है। इस पॉलिसी लेने वाले को बेसिक सम एश्योर्ड चुनने की भी सुविधा मिलती है। सम एश्योर्ड के ऑप्शन सिंगल प्रीमियम के 1.25 गुना या सिंगल प्रीमियम के 10 गुना हैं।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

सम एश्योर्ड  की सुविधा
इस योजना को ऑफलाइन के साथ-साथ ऑनलाइन भी लिया जा सकता है। इस पॉलिसी लेने वाले को बेसिक सम एश्योर्ड चुनने की भी सुविधा मिलती है। सम एश्योर्ड के ऑप्शन सिंगल प्रीमियम के 1.25 गुना या सिंगल प्रीमियम के 10 गुना हैं।
(फाइल फोटो)

<p><strong>कौन ले सकता है बीमा</strong><br />
एलआईसी निवेश प्लस स्कीम (LIC Nivesh Plus) में पॉलिसी लेने के लिए न्यूनतम आयु 90 दिन है। यह पॉसिली लेने के लिए अधिकतम उम्र 70 साल है।&nbsp;<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

कौन ले सकता है बीमा
एलआईसी निवेश प्लस स्कीम (LIC Nivesh Plus) में पॉलिसी लेने के लिए न्यूनतम आयु 90 दिन है। यह पॉसिली लेने के लिए अधिकतम उम्र 70 साल है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>टेन्योर और प्रीमियम लिमिट</strong><br />
इस पॉलिसी का टेन्योर 10 से 35 साल है। लॉक-इन पीरियड 5 साल है। इसका मतलब है कि इस बीच आप इस स्कीम से पैसे नहीं निकाल सकते। प्रीमियम पर मिनिमम लिमिट 1 लाख रुपए है, जबकि अधिकतम कोई सीमा नहीं है। मेच्योरिटी की अधिकतम उम्र 85 साल है।<br />
(फाइल फोटो)</p>

टेन्योर और प्रीमियम लिमिट
इस पॉलिसी का टेन्योर 10 से 35 साल है। लॉक-इन पीरियड 5 साल है। इसका मतलब है कि इस बीच आप इस स्कीम से पैसे नहीं निकाल सकते। प्रीमियम पर मिनिमम लिमिट 1 लाख रुपए है, जबकि अधिकतम कोई सीमा नहीं है। मेच्योरिटी की अधिकतम उम्र 85 साल है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>मेच्योरिटी बेनिफिट</strong><br />
अगर पॉलिसी होल्डर पॉलिसी टर्म तक जिंदा रहता है, तो उसे मेच्योरिटी का बेनिफिट मिलता है। यह यूनिट फंड मूल्य के बराबर होता है। पॉलिसी अवधि समाप्त होने के बाद यह देय होता है।<br />
(फाइल फोटो)</p>

मेच्योरिटी बेनिफिट
अगर पॉलिसी होल्डर पॉलिसी टर्म तक जिंदा रहता है, तो उसे मेच्योरिटी का बेनिफिट मिलता है। यह यूनिट फंड मूल्य के बराबर होता है। पॉलिसी अवधि समाप्त होने के बाद यह देय होता है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>फ्री-लुक पीरियड</strong><br />
लाइफ इन्श्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) फ्री-लुक पीरियड अपने कस्टमर को देती है। इस दौरान कस्टमर पॉलिसी को वापस कर सकता है। अगर पॉलिसी सीधे खरीदी जाती है तो 15 दिन और ऑनलाइन खरीदी जाती है तो 30 दिन का फ्री-लुक पीरियड लागू होती है।<br />
(फाइल फोटो)</p>

फ्री-लुक पीरियड
लाइफ इन्श्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) फ्री-लुक पीरियड अपने कस्टमर को देती है। इस दौरान कस्टमर पॉलिसी को वापस कर सकता है। अगर पॉलिसी सीधे खरीदी जाती है तो 15 दिन और ऑनलाइन खरीदी जाती है तो 30 दिन का फ्री-लुक पीरियड लागू होती है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>डेथ बेनिफिट</strong><br />
यदि पॉलिसी अवधि के दौरान बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है, तो नॉमिनी को डेथ बेनिफिट मिलता है। अगर पॉलिसीधारक जोखिम शुरू होने की तारीख से पहले मर जाता है तो यूनिट फंड वैल्यू के बराबर राशि मिलती है।<br />
(फाइल फोटो)</p>

डेथ बेनिफिट
यदि पॉलिसी अवधि के दौरान बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है, तो नॉमिनी को डेथ बेनिफिट मिलता है। अगर पॉलिसीधारक जोखिम शुरू होने की तारीख से पहले मर जाता है तो यूनिट फंड वैल्यू के बराबर राशि मिलती है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>विदड्रॉअल</strong><br />
लाइफ इन्श्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) एलआईसी निवेश प्लस (LIC Nivesh Plus) प्लान में पॉलिसी का छठा साल पूरा होने के बाद कस्टमर आंशिक निकासी कर सकता है। नाबालिगों के मामले में 18 वर्ष की आयु के बाद आंशिक निकासी की अनुमति मिलती है।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

विदड्रॉअल
लाइफ इन्श्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) एलआईसी निवेश प्लस (LIC Nivesh Plus) प्लान में पॉलिसी का छठा साल पूरा होने के बाद कस्टमर आंशिक निकासी कर सकता है। नाबालिगों के मामले में 18 वर्ष की आयु के बाद आंशिक निकासी की अनुमति मिलती है।
(फाइल फोटो)

Check Also

Apple ने जारी किया iOS 14.1 अपडेट, इसके साथ iphone में बदल जाएंगे ये फीचर्स

Apple आम तौर पर पब्लिक के लिए नया iOS वर्जन नए iPhone के साथ जारी …