ऐसी महिलाओं को अधिक होता है ब्रैस्ट कैंसर का खतरा

शरीर के किसी भी हिस्से में जब कोशिकाओं की असामान्य और अनियंत्रित वृद्धि होने लगती है तब उस हिस्से में कैंसर पांव पसारने लगता है। इसकी वृद्धि इतनी तेजी से होती है कि कैंसर को रोकना मुश्किल हो जाती है। कभी-कभी इन कोशिकाओं के टुकड़े रक्त के माध्यम से शरीर के अन्य भागों तक भी पहुंच जाते हैं और वहां कैंसर फैलाने लगते हैं। स्तन कैंसर का प्रमुख कारण स्तन में छोटे-छोटे सख्त कम या टिशू व कोशिकाओं का जमा होना होता है, जो बाद में गांठों का रूप में दिखाई देते हैं। वहीं गांठें फिर धीरे-धीरे कैंसर का रूप ले लेती हैं।

आजकल भारतीय महिलाओं में खान-पान की आदतों में काफी बदलाव आया है। ज्यादा कोलेस्ट्राल वाला खाना, जंक फूड, फास्ट फूड, मिर्च-मसाला, ऑयली भोजन ब्रैस्ट कैंसर की सबसे बड़ी वजह है। इसके अलावा गर्भ निरोधक दवाइयों का सेवन इन सबके कारम कैंसर की शुरूआत हो सकती है। इसके अलावा आधुनिक महिलाएं शराब, धूम्रपान, तंबाकू आदि का भी सेवन करने लगी है, जिससे उनका वजन बढ़ने लगता है, जो इसका कारण बनता है।

वहीं गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करने वाली और मोनोपॉज के बाद हार्मोन रिप्लेसमेंट कराने वाली महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा 20 गुणा ज्यादा होता है। इसके साथ ही शिशु को स्तनपान न करवाना भी एक बहुत बड़ा कारण है।

Check Also

दिन में इस समय सिगरेट पीना होता है सबसे ज्यादा खतरनाक

वैसे तो सिगरेट किसी भी समय पीना सेहत को नुकसान ही पहुंचाता है, लेकिन पूरे …