एसएमएस में कोरोना पॉजिटिव का इलाज नहीं कर सकते; प्रदेश के कुल मरीजों में से 5 प्रतिशत ही संक्रमित, इनमें भी 2 प्रतिशत को भर्ती करने की जरूरत नहीं

 

राज्य का सबसे बड़ा अस्पताल एसएमएस।

  • सरकार ने कहा- इन हालात में गैर-कोविड मरीजों के इलाज के लिए एसएमएस को चुना है
  • कोर्ट ने सरकार से पूछा था- एसएमएस में कोरोना मरीजों का इलाज क्यों नहीं किया जा रहा?

(संजीव शर्मा). एसएमएस अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करवाने की गुहार से संबंधित मामले में राज्य सरकार ने सोमवार को हाईकोर्ट में जवाब पेश किया। सरकार ने कहा कि एसएमएस अस्पताल में कोविड मरीजों का इलाज नहीं कर सकते। राज्य सरकार ने जवाब में कहा है कि प्रदेश में कुल मरीजों के मुकाबले महज 5 प्रतिशत ही कोरोना के मरीज हैं। इनमें से भी केवल 2 प्रतिशत को ही भर्ती करने की जरूरत है।

ऐसे में गैर कोविड मरीजों के इलाज और हितों को ध्यान में रखते हुए ही राज्य सरकार ने एक्सपर्ट की राय से एसएमएस अस्पताल को कोविड संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए नहीं रखा है। इसके अलावा एसएमएस अस्पताल की बजाय आरयूएचएस, जयपुरिया अस्पताल व ईएसआई अस्पताल को पूरी तरह से कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए समर्पित किया हुआ है।

सीजे इंद्रजीत महान्ति व जस्टिस एसके शर्मा की खंडपीठ ने राज्य सरकार के जवाब को रिकाॅर्ड पर लेते हुए मामले की सुनवाई दो सप्ताह टाल दी है। दरअसल, पिछले दिनों अदालत ने स्वप्रेरित प्रसंज्ञान लेते हुए अदालत से पूछा था कि एसएमएस अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज क्यों नहीं किया जा रहा?

सभी संक्रमितों को वेंटिलेटर की जरूरत नहीं
राज्य सरकार ने कहा कि सभी कोरोना संक्रमित मरीजों को वेंटिलेटर्स और ऑक्सीजन सपाेर्ट की जरूरत नहीं है। प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज की बेहतर सुविधा है और याचिका में वेंटिलेटर्स और बेड की कमी की बात सही नहीं है।

जयपुर के आरयूएचएस अस्पताल में 10 अक्टूबर तक 62 वेंटिलेटर्स थे, जिनमें से 29 ही काम में आ रहे हैं। इसके अलावा 84 निजी अस्पतालों को भी काेरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए आरक्षित रखा गया है और उनमें 9,377 बेड्स हैं। निजी अस्पतालों में भी बेहतर इलाज किया जा रहा है और वहां पर भी पूर्ण प्रशिक्षित, उच्च योग्यता वाले डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टॉफ सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध है।

 

Check Also

पंजाब: विशेष सत्र के दूसरे दिन भी हंगामे के आसार, कृषि कानून पर बिल के खिलाफ कांग्रेस को घेर रहे आकाली दल और आप

चंडीगढ़: पंजाब में कैप्टन सरकार ने केंद्र सरकार के किसान बिल के खिलाफ कानून पास करने …