एयर इंडिया का वो विमान फिर उड़ने लगा जिसे 25 साल पहले होना था स्क्रैप, इंजीनियरों की मेहनत लाई रंग

नागपुरः 1960 के दशक में हवाई परिवहन पर हावी रहने वाला बोइंग 707 कमर्शियल फ्लाइट के रूप में चलने से 30 साल पहले ही हट चुका है. एविएशन के क्षेत्र में माना जाता है कि इसी नैरो बॉडी एयरक्राफ्ट से जेट एज की शुरुआत हुई थी. 1954 में इसका प्रोटोटाइप 1954 में बना था. इसके बाद 1958 में ये पैन अमेरिकन वर्ल्ड एयरवेज में शामिल हुआ.

भारत में एयर इंडिया के बेड़े में इस विमान की एंट्री 1965 में हुई थी. इसे बनाने वाली कंपनी बोइंग ने 1985 में इसे स्क्रैप करने के लिए कह दिया था. इतने वर्षों बाद अब एयर इंडिया इंजीनियरिंग सर्विसेस लिमिटेड (एआईईएसएल) ने इसे फिर उड़ने लायक बना दिया है.

बीते साल इस विमान को पूरी तरह नया और उड़ने लायक बनाने के लिए एआईईएसएल ने बोइंग से इंजीनियर्स की टीम मांगी थी लेकिन उसने हाथ खड़े कर दिए थे. इसके बाद एआईईएसएल ने इसे एक चुनौती के रूप में लिया और भारत सरकार के लिए इसे फिर से तैयार कर दिया.

खास बात ये है कि इसका मैनुअल अब एआईईएसएल ने ही तैयार किया है. इसके मुताबिक ये 50 प्रेशर साइकिल अथवा सामान्य रूप में इतनी उड़ानों के बाद मेंटेन किया जा रहा है. सुरक्षा कारणों से इसके उपयोग के विषय में जानकारी का खुलासा नहीं किया गया है. बहरहाल गर्व का विषय ये है कि हमारे देश में ऐसे इंजीनियर्स भी हैं जो बेकार कहीं जाने वाली चीजों को भी नायाब बना दे. उल्लेखनीय है कि उक्त 707 विमान जनवरी 2020 से लगातार उड़ रहा है.

Check Also

अगले साल बंद हो सकता है गैलेक्सी नोट को प्रोडक्शन, 2011 में इसी की बदौलत दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बनी थी सैमसंग

  2021 के लिए नोट को लेकर कंपनी के पास कोई योजना नहीं-सोर्स गैलेक्सी नोट …