एनडीए में दलित राजनीति पर मची खींचतान, जदयू-लोजपा और हम के नेताओं में लगी है खुद को बड़ा चेहरा बताने की होड़

 

लोजपा के चिराग पासवान, हम के जीतन राम मांझी और जदयू के नेताओं में सबसे बड़े दलित नेता बनने की होड़ लगी है।

  • जेडीयू के दलित नेता और सरकार में दो-दो विभागों के मंत्री महेश्वर हजारी ने चिराग पासवान जमकर हमला बोला
  • राजद के वीरेंद्र ने कहा कि महेश्वर हजारी देर रात हमारे नेता तेजस्वी यादव से मिलने चोरी छिपे आते थे

पुरानी कहावत है- एक म्यान में दो तलवार नहीं रह सकती, लेकिन बिहार की राजनीति में तो एक म्यान में तीन तलवार डाल दी गई हैं। अब ऐसे में हर एक तलवार चाहती है कि उसकी धार सबसे ज्यादा हो और उसकी चमक सबसे अधिक दिखे। दरअसल बिहार एनडीए में दलित राजनीति को लेकर खींचतान मची हुई है। लोजपा के चिराग पासवान, हम के जीतन राम मांझी और जदयू के नेताओं में सबसे बड़े दलित नेता बनने की होड़ लगी है। इस रेस में शामिल होने के लिए जदयू के महेश्वर हजारी भी आ गए हैं। हालांकि, अशोक चौधरी सरीखे नेता भी अपने आप को दलितों का सबसे बड़ा चेहरा मानते हैं।

पंडित जी पतरा दिखा कर आते हैं बिहार
जदयू और लोजपा के बीच शुरू हुई जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। कभी लोजपा के नेता जदयू पर हमलावर होते हैं तो कभी जदयू के नेता लोजपा नेताओं पर हमला बोलते हैं। एक बार फिर से जेडीयू के दलित नेता और सरकार में दो-दो विभागों के मंत्री महेश्वर हजारी ने चिराग पासवान जमकर हमला बोला है। महेश्वर हजारी ने चिराग पासवान पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ नेता पंडित जी को पतरा दिखाकर बिहार आते हैं और बड़े-बड़े सपने देखते हैं। सपना देखना गलत बात नहीं है, लेकिन सपना को पूरा करने के लिए सकारात्मक काम करने होते हैं जो वह नहीं करते हैं।

बिहार में मुख्यमंत्री पद की वैकेंसी नहीं
महेश्वर यहीं नहीं रुके लगे हाथों उन्होंने विपक्ष के नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर भी हमला बोल दिया। उन्होंने कहा कि कुछ नेता मुख्यमंत्री बनने का सपना भी देख रहे हैं, लेकिन उन्हें मालूम होना चाहिए कि फिलहाल बिहार में मुख्यमंत्री पद की कोई वैकेंसी नहीं है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पिछले 15 सालों से जिस तरह से बिहार की सेवा करते रहे हैं आगे भी वह बिहार की सेवा करते रहेंगे। बिहार में नीतीश कुमार का कोई ऑप्शन नहीं है। बिहार सुरक्षित हाथों में है।

लोजपा और हम ने फिलहाल साधी चुप्पी
महेश्वर हजारी के बयान पर लोजपा के नेता खुलकर कुछ बोलना नहीं चाहते हैं। उनका मानना है कि इसके लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान अधिकृत हैं और वही गठबंधन के नेताओं पर कुछ भी बोल सकते हैं। महेश्वर के बयान के बाद हम पार्टी की तरफ से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई। उनका मानना है कि गठबंधन के किसी भी घटक दल पर कोई बयान तब-तक नहीं देना है, जब तक कि वह उन पर हमला ना करे।

महेश्वर हजारी रात में आते है तेजस्वी से मिलने: आरजेडी
महेश्वर को लोजपा और हम के नेता ने तो बक्श दिया, लेकिन राजद के नेता भाई बिरेंद्र ने उन्हें आड़े हाथों ले लिया। भाई वीरेंद्र ने कहा कि महेश्वर हजारी देर रात हमारे नेता तेजस्वी यादव से मिलने चोरी छिपे आते थे। रात में मिलने आते हैं और दिन में उनके खिलाफ बोलते हैं। महेश्वर हजारी साफ करें कि आखिर वह करना क्या चाहते हैं। पहले चिराग पासवान की तरफ से एनडीए में लगाए गए आग को बुझाएं फिर महेश्वर हजारी अपनी बात कहें।

0

Check Also

बेगूसराय में दिनदहाड़े दो करोड़ से अधिक के आभूषण की लूट

बेगूसराय : बेगूसराय में एक बार फिर बेलगाम अपराधियों ने पुलिस को चुनौती देते हुए  …