उन्नाव मेडिकल सेंटर मरीजो के लिए बना नासूर, इलाज के नाम पर अवैध  उगाही न मिलने पर की जाती है मारपीट

अस्पताल में आए हुए मरीजो के साथ बदसलूकी करने के साथ  की जाती है मारपीट
आयेदिन मारपीट की घटनाओं से चर्चा में रहता है डॉक्टर  निर्मल खेड़िया का उन्नाव मेडिकल सेंटर
उन्नाव।
जनपद में स्वास्थ्य सेवाएं सेवाए वैसे ही बुरी तरह चरमरा रही है वही जनपद का मानकविहीन उन्नाव मेडिकल सेंटर स्वास्थ्य विभाग की रहमोकरम पर अपनी गुंडई के दमखम पर संचालित हो रहा है जहाँ मरीजो के इलाज पर  अवैध धन की वसूली की जाती है ,  जब मरीज की स्थिति बिगड़ जाती  है तब  मरीज के साथ हुए तीमारदारो से बेहतर इलाज का दावा करके और अधिक धन की मांग की जाती है जब इसमे तीमारदार असमर्थता जताते है तो उक्त अस्पताल के  डॉक्टर अपने तथाकथित  गुंडो के साथ मरीज और मरीजो के साथ आये हुए लोगो के साथ जमकर अभद्रता और मारपीट करते है फिर फर्जी मुकदमे में फ़साने की धमकी देकर चुप रहने की बात कहते है। उन्नाव मेडिकल सेंटर अपनी गुंडागर्दी प्रवत्ति के लिए जनपद में मशहूर है यहाँ मरीजो  और उनके परिजनों के साथ मारपीट की घटनाएं होना अब आम हो गयी है। ऐसा ही एक मामला जनपद के माखी थाना क्षेत्र के खुमान खेड़ा से आया है।जहाँ वीरेंद्र यादव पुत्र मुन्नू यादव ने बताया कि दिनांक 9/9/2020 को उसने अपने मित्र डॉ0 रिजवान अहमद के  सहयोग से   अपनी पत्नी सपना को भर्ती कराया था। जहाँ 10/9/2020 को आपरेशन से बेटा हुआ। जिसके बाद से लगातार सपना के पेट मे दर्द हो रहा था।जिसके बाद वीरेंद्र ने बताया कि उसने मित्र डॉ0 रिजवान अहमद और बहनोई, बहिन  के साथ उन्नाव मेडिकल सेंटर में तैनात डॉक्टर रिमझिम जैन से पत्नी के पेट दर्द की बात बताई क्योकि डॉक्टर रिमझिम जैन ने ही पत्नी का ऑपरेशन किया था। पेट दर्द की शिकायत बताने के बाद डॉक्टर रिमझिम  जैन ने दुबारा  अल्ट्रासाउंड कराने की बात कही जिस पर उसने दुबारा अल्ट्रासाउंड कराया और इसकी रिपोर्ट लेकर डॉक्टर बहिन रीता डॉक्टर रिमझिम जैन के पास गई तो उन्होंने और रुपया जमा करने को कहा जिस पर बहिन रीता ने बताया जो बातचीत हुई थी उतना रुपया जमा कर दिया और अब वह नही दे सकते तो दोनो के बीच  बातचीत और गहमागहमी बढ़ने लगी । जिसके  के बाद अस्पताल में मैनेजमेंट का काम देख रहे प्रियांशू ,  डॉक्टर भरत खेड़िया और पिता डॉक्टर निर्मल खेड़िया ने अन्य साथियों की मदद से सीसीटीवी कैमरे बन्द करवाकर उसकी बहिन रीता  के साथ मारपीट और जबरदस्ती होता देख शोर शराबा सुनकर मदद के लिए दौड़े बहनोई शिवबरन और मित्र डॉक्टर रिजवान अहमद के साथ अस्पताल का दरवाजा बन्द करके जमकर लात घूसों से  मारा पीटा और बीचबचाव करने पर मित्र डॉक्टर रिजवान अहमद के साथ जमकर मारपीट की। जिससे उनको काफी गम्भीर चोटे आयीं है चूँकि अस्पताल के बाहर पहले से ही पुलिस मौजूद थी तो मारपीट करने वाले डॉक्टर निर्मल खेड़िया पुत्र डॉक्टर भरत खेड़िया, डॉक्टर रिमझिम जैन  , मैनेजमेंट देखने वाला प्रियांशू, और अन्य लोग  पुलिस को आता देख नौ दो ग्यारह।हो गए। जिसके बाद पीड़ित वीरेंद्र यादव ने थाना कोतवाली में तहरीर दी जिस पर सदर कोतवाली पुलिस ने आईपीसी 147, 323,504,506,342 के तहत डॉक्टर रिमझिम जैन, निर्मल खेड़िया ,भरत खेड़िया,मैनेजमेंट देखने वाला प्रियांशू  और अन्य लोगो के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया है।

Check Also

महोबा: बोरवेल में गिरे 4 साल के मासूम की नहीं बची जान, 20 घंटे बाद बाहर निकला शव

महोबा. यूपी के महोबा में खुले बोरवेल में गिरे चार साल का घनेंद्र जिंदगी की जंग …