उत्तर प्रदेश में मॉस्क नहीं पहनने पर 5300 लोगों का चालान, सबसे अधिक चालान इस शहर में किया गया

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश में मॉस्क नहीं पहनने वाले लगभग 5300 लोगों का चालान किया गया जबकि दोपहिया वाहनों पर एक से अधिक लोग के बैठने के मामलों में 18, 200 से अधिक लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गयी। अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश कुमार अवस्थी ने शनिवार को बताया कि मॉस्क नहीं पहनने के लिए 5,298 लोगों का चालान किया गया है, सबसे अधिक 1461 चालान राजधानी लखनऊ में जबकि 1306 चालान वाराणसी में हुए।

उल्लेखनीय है कि मॉस्क नहीं पहनने पर पहली बार सौ रुपये, दूसरी बार सौ रुपये और तीसरी बार तथा उसके बाद पांच सौ रुपये के जुर्माने का प्रावधान है। अवस्थी ने कहा कि मॉस्क की कीमत पांच से दस रुपये के बीच है, ऐसे में जुर्माना भरने की बजाय लोग मॉस्क पहनें। अवस्थी ने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने को लेकर 38, 472 लोग के खिलाफ कार्रवाई की गयी और केवल एक दिन शुक्रवार को 24 लाख 60 हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया।

उन्होंने कहा कि दोपहिया वाहन पर एक ही व्यक्ति बैठ सकता है, अगर महिला है तो वह पीछे बैठ सकती है। उन्होंने बताया कि दोपहिया पर एक से अधिक व्यक्ति के यात्रा करने के मामले में 18 हजार 244 लोग के खिलाफ कार्रवाई गयी और 14 लाख 90 हजार रुपये जुर्माना वसूला गया।

अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में कुल 863 हॉटस्पॉट हैं, जो 485 थानाक्षेत्रों में हैं। हॉटस्पाट क्षेत्रों में सात लाख 80 हजार मकान हैं। उन्होंने कहा कि निषिद्ध क्षेत्र के बाहर काफी छूट दी गयी है, लेकिन दुकानदारों से अपील है कि वे सामाजिक दूरी का पालन सुनिश्चित करें।

अवस्थी ने बताया कि रोजाना डेढ से दो लाख श्रमिक लौट रहे हैं, ऐसे में व्यापक पैमाने पर उनकी जांच की आवश्यकता है। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में शनिवार से लेवल—3 की नयी लैब बनाने का कार्य शुरू हो गया है।

Check Also

पड़ोसी ने गेहूं चुराते बनाया था वीडियो, जेल भेजने की दे रहा था धमकी; नाबालिग ने लगा ली फांसी

कानपुर(Uttar Pradesh). यूपी के कानपुर में दिल को झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। यहां …