उत्तर प्रदेश की दो नाबालिग लड़कियों के साथ गैंगरेप मामला, गिरफ्तार सभी सात अभियुक्तों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल

पुलिस हिरासत में सातों आरोपी। पुलिस ने घटना के लिए प्रयोग किए गए तीन बाइक, चार मोबाइल और एक पीड़िता का आधार कार्ड भी बरामद किया है। -फाइल फोटो।

  • 29 जुलाई को बंशीधर नगर में आधार अपडेट कराने आई थीं दो नाबालिग
  • आरोपियों ने लड़कियों के साथ मौजूद रिश्तेदारों को मारपीट कर भगा दिया था

गढ़वा जिले के बंशीधर नगर में गत जुलाई माह में यूपी की दो नाबालिग लड़कियों के साथ गैंगरेप मामले में पुलिस ने पीड़िताओं को न्याय दिलाने की दिशा में कदम बढ़ाया है। रेप पीड़िताओं को न्याय दिलाने के प्रति संजीदा पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार सभी सात अभियुक्तों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दिया है।

जानकारी के अनुसार, एसपी श्रीकांत एस खोत्रे के निर्देशन में पुलिस ने इस कांड से जुड़े विभिन्न पहलुओं की बेहद बारीकी से जांच की गई। इसमें गिरफ्तार सभी सातों अभियुक्तों को गैंगरेप का दोषी पाया गया है। मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रथम अजित कुमार की कोर्ट में पुलिस ने लगभग 100 पन्नों में चार्ज शीट दाखिल की है। जिन लोगों पर चार्ज शीट दाखिल हुई है उनमें सद्दाम सौदागर उर्फ मुख्तार आलम, विक्की खान, जावेद खान, सुफरैल खान, नेयामत खान, अली राजा एवं शायद खान के नाम शामिल हैं।

सभी अभियुक्त न्यायिक हिरासत में गढ़वा कारा में बंद हैं। सभी अभियुक्तों के खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत चार्जशीट दाखिल की गई है। पुलिस ने घटनास्थल की जांच, पीड़िताओं और उनके साथ जा रहे लोगों के बयान, स्वतंत्र गवाहों की तलाश और उनके बयान को दर्ज किया है। पीड़िताओं का आधार कार्ड अभियुक्तों के पास मिलने से केस का आधार और मजबूत हो गया।

आधार अपडेट कराने आई थीं दोनों नाबालिग
बता दें कि 29 जुलाई को यूपी की दो नाबालिग लड़कियां आधार कार्ड अपडेट कराने अपने रिश्तेदारों के साथ बाइक से बंशीधर नगर आई थी। बंशीधर नगर से शाम 5 बजे घर लौटने के दौरान बंसीधर नगर-गरबांध मार्ग पर बिशुनपुर से आगे बराई टांड़ में टॉयलेट के लिए बाइक रोका गया। इस दौरान पीछा करते हुए चार बाइक से युवक वहां पहुंचे। युवकों ने दोनों लड़कियों को पकड़ लिया और जंगल में ले जाकर उनके साथ गैंगरेप किया। युवकों ने लड़कियों के रिश्तेदारों के द्वारा विरोध करने पर उनलोगों के साथ मारपीट की।

इसी बीच एक ने वहां से भागकर 100 डायल पर फोन किया और घटना की पूरी जानकारी दी। घटना की सूचना के बाद पहुंची पुलिस पीड़िता और उसके दोनों रिश्तेदारों को थाने ले आई थी। पुलिस ने पीड़िता के बयान पर एफआईआर और मेडिकल की प्रक्रिया के साथ साथ कोर्ट में 164 का बयान रिकॉर्ड कराया था। 10 दिनों के भीतर सभी अभियुक्त पकड़ लिए गए थे।

 

Check Also

गिरिडीह में शादी से लौट रहे ससुर-दामाद बाइक से सड़क पर गिरे, बुजुर्ग को अज्ञात वाहन ने कुचला; मौत

हादसा निमियाघाट के पास NH-2 पर हुआ। ससुर-दामाद कोडरमा के डोमचांच से एक शादी समारोह …