ईडी ने डीसीएचएल, पूर्व प्रवर्तकों की 122 करोड़ की संपत्ति को अटैच किया

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में डेक्कन क्रॉनिकल होल्डिंग्स लिमिटेड (डीसीएचएल) और इसके पूर्व प्रवर्तकों की 122 करोड़ की संपत्ति अटैच की है। ईडी ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि मनी लांड्रिंग निवारण अधिनियम के तहत यह कार्रवाई की गई है। नई दिल्ली, हैदराबाद, गुरुग्राम, चेन्नई, बेंगलुरु और कुछ अन्य स्थानों पर डीसीएचएल एवं इसके पूर्व प्रवर्तकों टी वेंकटराम रेड्डी, टी विनायकरवि रेड्डी और उनके द्वारा बनाई गई एक बेनामी कंपनी की संपत्तियों को अटैच किया गया है।

ईडी ने दावा किया कि कंपनी फिलहाल कॉरपोरेट दिवालिया समाधान प्रक्रिया में है। लेकिन, राष्ट्रीय कंपनी कानून अधिकरण (एनसीएलटी) का निर्णय आने तक अटैच की गई संपत्ति को इससे बाहर रखा गया है। ईडी ने कहा कि एनसीएलटी ने सिर्फ 400 करोड़ रुपये की समाधान प्रक्रिया को मंजूरी दी है। डीसीएचएल और इसके तत्कालीन प्रवर्तकों द्वारा कुल 8,180 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की गई।

Check Also

मन की बात में like से ज्यादा dislike मिले,देखे विडियो