इकोनॉमी के मोर्चे पर सरकार को राहत, अप्रैल में 134 फीसदी बढ़ी IIP की ग्रोथ

 

इकोनॉमी के मोर्चे पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के लिए एक बड़ी राहत की खबर आई है. दरअसल, इस साल अप्रैल में आईआईपी यानी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (Index of Industrial Production) की ग्रोथ 134 फीसदी रही. पिछले साल अप्रैल के बेहद कम बेस इफेक्ट के कारण साल दर साल आधार पर ग्रोथ रेट इतनी ज्यादा रही है.

इस साल मार्च में आईआईपी की ग्रोथ रेट 22.4 फीसदी थी. पिछले साल अप्रैल में पूरा देश लॉकडाउन में था और फैक्टरियों में कामकाज पूरी तरह से ठप था. जिसकी वजह से ग्रोथ रेट बहुत कम रहा. वही बेस रेट होने के कारण अप्रैल में ग्रोथ रेट ज्यादा है.

मार्च में आईआईपी की ग्रोथ रेट 22.4 फीसदी थी केंद्र सरकार ने 11 जून को आईआईपी के आंकड़े जारी किए हैं. इस साल फरवरी तक आईआईपी की ग्रोथ नकारात्मक थी. मार्च 2021 में ग्रोथ 22.4 फीसदी थी.

हालांकि ये आंकड़े जारी करने के साथ ही सरकार ने कहा कि अप्रैल 2021 के IIP डेटा की तुलना अप्रैल 2020 से नहीं की जा सकती है. अप्रैल में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का आउटपुट करीब 200 फीसदी बढ़ा है. यह मार्च में 25.8 फीसदी था.

फरवरी में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ -3.7 फीसदी थी. 2020 का पूरा साल लॉकडाउन में निकल गया. लिहाजा इसका मैन्युफैक्चरिंग पर बहुत बुरा असर पड़ा था.

NEWS KABILA

Check Also

पीएमसी में 1,800 करोड़ लगाएगी भारतपे

मुंबई : सेंट्रम समूह और डिजिटल भुगतान सेवा प्रदाता स्टार्टअप कंपनी भारतपे का संयुक्त उद्यम …