आम लोगों के चंदे से बना थाने का लॉकअप:CM नीतीश ने किया था उद्घाटन, 10 साल बाद भी नहीं था हाजत; अब इलाके के लोगों ने बनवाया

 

हाजत का उद्घाटन करते DSP राजेश मांझी। - Dainik Bhaskar

हाजत का उद्घाटन करते DSP राजेश मांझी।

  • बांका के खेसर, बंधुआ कुराबा और सुईया थाने में भी नहीं है लॉकअप

​​​​​अगर हम कहें कि बिहार के कई थाने ऐसे हैं जहां हाजत यानी लॉकअप ही नहीं है, तो चौंकिएगा मत। क्योंकि यह सोलह आने सच्ची खबर है। राजधानी से महज 21 किलोमीटर दूर है फतुहा अनुमंडल का नदी थाना। इस थाने की शुरूआत 20 मई 2011 को खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की थी। लेकिन तब से 10 साल लग गए थाने को एक अदद हाजत पाने में। मजेदार बात यह है कि 10 साल बाद भी थाने में जो हाजत बना वो सरकारी फंड से नहीं, बल्कि नदी थाना क्षेत्र के लोगों के दिए चंदे से। अब इस थाने के शिलापट्‌ट पर लिखा है – आमलोगों के सौजन्य से।

SP से लेकर पुलिस मुख्यालय तक लगाई गुहार

दरअसल कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने और गंगा नदी के रास्ते से होने वाले अपराध पर लगाम लगाने के लिए फतुहा प्रखण्ड के मौजीपुर स्थित गंगा नदी के किनारे नदी थाना बनाया गया। 2011 में यहां थाना तो बन गया लेकिन ना ही इसका सीमांकन हुआ और ना हाजत बना। यह बस नाम का थाना बन कर रह गया। 2016 में गंगा नदी पर हुए नाव दुर्घटना के बाद आनन-फानन में इसका सीमांकन तो कर दिया गया, लेकिन हाजत तब भी नहीं बना। तब से हाल तक गिरफ्तार बंदी को फतुहा थाना में रखा जाता था।

इस दौरान यहां के SHO सकेन्द्र कुमार ने SP से लेकर पुलिस मुख्यालय तक गुहार लगाई। बावजूद यहां लॉकअप नहीं बना। अब स्थानीय लोगों के सहयोग से चंदा जमाकर लॉकअप बनवाया गया है। मंगलवार को DSP राजेश मांझी ने हाजत का उद्घाटन किया।

बिहार में और भी हैं ऐसे थाने

बिहार के थानों को भले ही मॉडल थाना बनाने का दावा किया जा रहा हो, लेकिन आज भी कई ऐसे थाने हैं, जहां लॉकअप तक नहीं है। बांका जिले का बंधुआ कुराबा, सुईया और खेसर थाने में तो अभी भी हाजत मौजूद नहीं है। 2007 में नक्सलियों ने खेसर थाने को बम से उड़ा दिया था जिसके बाद से यह दो कमरे के पंचायत भवन में चल रहा है। बांका जिले के ये तीनों थाने अतिसंवेदनशील और नक्सल प्रभावित क्षेत्र में हैं।

 

Check Also

मुंगेर में 36 घंटे बाद भी खौफ:ट्रिपल मर्डर के 3 FIR में 29 नामजद, 2 गिरफ्तार, फिर भी महिलाएं पुलिस से लगा रहीं गुहार- घर पहुंचा दो सरकार

मृतक जयजयराम साह का परिवार। पिता-पुत्र की हत्या के बाद परिवार के सभी सदस्य अन्य …