आखिर क्या है आधार वर्चुअल आईडी और जानिए इस आईडी से होने वाले फायदे

पिछले दिनों कोरोना संक्रमण के कारण देश भर में लॉकडाउन लगा हुआ था। ऐसे में सरकार लगभग हर चीज़ वर्चुअल या ऑनलाइन वर्जन अपडेट कर रही हैं। ताकि लोग घर बैठे सुविधाओं का लाभ उठा सकें। यह एक तरह की डिजिटल आईडी है जिसका उपयोग हम वेरिफिकेशन के लिए कर सकते हैं। आप इसका इस्तेमाल एजेंसियों, टेलीकॉम कंपनी या अन्य कंपनी के पास केवाईसी के लिए कर सकते हैं। एक आधार नंबर के लिए एक ही आधार वर्चुअल आईडी बनाई जा सकती है।

आधार वर्चुअल आईडी बनाने का तरीका 

# सबसे पहले आप UIDAI की वेबसाइट http://uidai.gov.in/ पर जाएं। इसके बाद आप “Aadhaar Services”  सेक्शन में “Virtual ID Generator” पर क्लिक करें।

# आपके सामने एक नए वर्चुअल आईडी जनरेशन का पेज खुल जाएगा। फिर आप अपना 12 अंक का आधार नंबर और सिक्योरिटी कोड दर्ज करें।

# नंबर डालने के बाद “Send OTP” बटन पर क्लिक करें। फिर आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP भेजा आएगा।

# OTP डालें और “Generate वर्चुअल आईडी” और “Retrieve वर्चुअल आईडी” में का विकल्प चुनें। इसके बाद “Submit”  बटन पर क्लिक करें।

# आपके पास एक मैसेज आएगा कि “Congratulations!   आपका वर्चुअल आईडी नंबर सफलतापूर्वक जनरेट हो गया है और आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर भेज दिया गया है।”

आधार वर्चुअल आईडी के फायदे 

# आधार वर्चुअल आईडी आपको वेरिफिकेशन के समय आधार नंबर साझा नहीं करने का ऑप्शन देगी। आपकी वर्चुअल आईडी से नाम, पता और फोटोग्राफ आदि कई चीजों आसानी से  वेरीफाई (वेरिफिकेशन) हो जाएंगी।

# यूजर जितनी चाहे उतनी वर्चुअल आईडी खुद जनरेट कर सकता है। UIDAI के अनुसार किसी भी अधिकृत एजेंसियों को आधार कार्ड होल्डर की ओर से वर्चुअल आईडी जनरेट करने की अनुमति नहीं होगी।

# सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस आईडी से आपका निजी डाटा ज़्यादा शेयर नहीं होगा।

Check Also

RBI ने बैंक खाते से जुड़े नए नियम को लेकर किया ऐलान, 31 अक्टूबर से हो जाएगा लागू

अगर आपका भी किसी बैंक में खाता खुला हुआ है और आप उसमें अक्सर ट्रांजेक्शन …