अमेजन ने कर्मचारियों को दिया टिक टॉक डिलीट करने का आदेश, 5 घंटे में ही वापस लेना पड़ा फैसला, जानिए क्या है पूरा मामला

दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन को अपना एक फैसला वापस लेना पड़ा है। अमेजन ने अपने कर्मचारियों को तुरंत टिक टॉक ऐप हटाने के लिए ईमेल किया था। लेकिन अब अपने उसी आदेश को लेकर अमेजन बैकफुट पर आ गया है जिसमें उसने कर्मचारियों को टिक टॉक ऐप हटाने के लिए कहा था।

5 घंटे में वापस लिया फैसला
ईमेल भेजने के पांच घंटे बाद ही अमेजन की तरफ से सफाई दी गई कि मेल गलती से चला गया था। अमेजन ने अपनी सफाई में बताया कि कुछ कर्मचारियों को गलती से ईमेल भेजे गए। टिक टॉक के संबंध में फिलहाल हमारी नीतियों में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

ऐप हटाने के लिए कर्मचारियों को भेजे गए ईमेल में टिक टॉक ऐप को सुरक्षा के लिए खतरा बताया गया था। कंपनी का कहना है कि चीनी ऐप सुरक्षा के लिए खतरा है, इसलिए उस फोन पर टिक टॉक इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए जिस पर अमेजन से ईमेल आते हैं।

अमेरिका के हैं लाखों कर्मचारी
हालांकि, विवाद बढ़ने के बाद कंपनी ने टिकटॉक हटाने संबंधी ईमेल को गलती करार दिया है। वॉलमार्ट के बाद अमेजन अमेरिका का दूसरी सबसे बड़ी निजी एंप्लॉयर है। दुनिया भर में अमेजन के 8.40 लाख से अधिक कर्मचारी हैं।

भारत ने बैन किए 59 चीनी ऐप
अमेजन यदि अपना आदेश वापस नहीं लेती, तो टिकटॉक को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता था। पिछले महीने भारत और चीनी सैनिकों के बीच सीमा झड़प के बाद भारत सरकार ने टिक टॉक समेत 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है।

अमेरिका भी लगा सकता है चाइनीज ऐप पर बैन
टिक टॉक का मालिकाना हक चीनी इंटरनेट कंपनी बाइटडांस के पास है। भारत में चीनी ऐप बैन होने के बाद अब अमेरिका में भी इन ऐप पर बैन लग सकता है।

हाल ही में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने चीनी ऐप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाए जाने के भारत के फैसले की तारीफ की थी। अब अमेरिका भी टिकटॉक समेत सभी चाइनीज ऐप पर प्रतिबंध लगा सकता है। पोम्पिओ ने कहा, अमेरिका टिकटॉक समेत ‘चीनी सोशल मीडिया ऐप पर प्रतिबंध लगाने पर निश्चित रूप से विचार कर रहा है।

Check Also

जर्मनी में 3 महीने में पहली बार एक दिन में 1200 केस मिले, एयर इंडिया ने यूरोप के पांच शहरों के लिए उड़ानें रोकीं; दुनिया में 2.06 करोड़ मरीज

दुनिया में कोरोनावायरस संक्रमण के अब तक 2 करोड़ 6 लाख 1 हजार 927 मामले …