अमित शाह के वर्चुअल रैली का विरोध कर रही कांग्रेस, तेजस्वी ने भी कहा-9 जून को भूखा गरीब बजाएगा थाली

पटना (Bihar)। बिहार विधानसभा चुनावी तैयारियां तेज हो रही है। इसी बीच बीजेपी, अमित शाह की 9 जून को वर्चुअल रैली का आयोजन करेगी, जिसका कांग्रेस विरोध कर रही है। वहीं लालू यादव के बेटे और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि आरजेडी की ओर से इस दिन गरीब अधिकार दिवस मनाना जाएगा। इसके तहत भूखे गरीब, बेरोजगार और प्रवासी मजदूर सुबह दस बजे से थाली बजाकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। आपदा के इस दौर में सरकार के रवैए पर सभी गरीब प्रतिकार करेंगे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि बिहार में लोग कोरोना जैसी महामारी से परेशान हैं। गरीब भूखे पेट सो रहे हैं, उनके पास काम नहीं है। लेकिन, बीजेपी अपने काम यानी चुनाव की तैयारी में जुटी हुई है।

तेजस्वी में याद दिलाया लालू प्रसाद की वो बातें
तेजस्वी यादव ने अमित शाह के वर्चुअल रैली पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बीजेपी डाटा की बात करती है, लेकिन यहां लोगों के पास खाने को आटा नहीं है। इसलिए 9 जून को डाटा नहीं बल्कि, आटा के लिए भूखे पेट रहने वाले गरीब अपने हाथ में खाली बर्तन लेकर बजाकर बहरी सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाएंगे। नेता प्रतिपक्ष ने यह भी कहा कि बीजेपी राशन-सुशासन-कड़े प्रशासन के लिए डिजिटल का इस्तेमाल करने के बजाए चुनाव के लिए कर रही है।

कांग्रेस ने भी किया विरोध
कांग्रेस विधान पार्षद प्रेमचंद्र मिश्रा ने बीजेपी के वर्चुअल रैली असंवेदनशील बताया है। उन्होंने कहा कि जहां राष्ट्रीय स्तर पर एक लाख और बिहार में अबतक लगभग 4 हजार लोग कोरोना से संक्रमित हैं। कोरोना की वजह से देश में 5400 लोगों की मौत हो चुकी है और लॉकडाउन की वजह से सड़क और ट्रेन हादसे में 80 श्रमिकों की मौत हुई है। ऐसी स्थिति में अमित शाह का वर्चुअल रैली करने का फैसला राजनीति से प्रेरित होने के साथ ही जनता खासकर गरीबों श्रमिकों के प्रति उसके असंवेदनशील होने का प्रमाण है।

Check Also

लालू जेल से बाहर रहे तो एनडीए तीन चौथाई बहुमत से जीतेगा: सुशील मोदी

मोदी ने कहा-लालू बाहर रहेंगे तो राजद के 15 साल के भयावह शासनकाल की याद …