अमर सिंह का विवादों से भी नाता रहा; उनके ये आठ बयान चर्चा में रहे, मुलायम के लिए कहा था- एकलब्य बनकर संतुष्ट हूं, लेकिन अपना अंगूठा नहीं दूंगा

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

उत्तर प्रदेश में सपा से सांसद रह चुके अमर सिंह का शनिवार को सिंगापुर में निधन हो गया। वे पिछले काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। कुछ दिनों पहले ही उनका किडनी ट्रांसप्लांट किया गया था। अमर सिंह का विवादों से पुराना नाता रहा और अपने बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहे। अमर सिंह ने मुलायम सिंह समेत कई लोगों पर विवादित टिप्पणियां भी कीं। सपा से अलग होने के बाद अमर सिंह ने मुलायम के खिलाफ एक टिप्पणी में कहा था- मैं मुलायम के लिए एकलव्य बनकर संतुष्ट हूं, पर एकलव्य की तरह अपना अंगूठा उन्हें नहीं दूंगा।

पहली बार उगला था जहर

सपा से निकाले जाने के बाद मार्च 2010 में अमर सिंह बोले- मुलायम सिंह या तो आप लोहियावादी नहीं हैं या फिर अपने स्वार्थी मुलायमवाद का सफेद झूठ लोहियाजी पर मढ़ना चाहते हैं। ऐसा लगता है कि सारी नेतृत्व क्षमता, गुणवत्ता सिर्फ एक ही परिवार में है। मेरी गलती थी कि मैंने 14 साल से हो रही इस धांधली को नहीं देखा।

रामगोपाल यादव पर साधा था निशाना

23 अक्टूबर 2010 को अमर सिंह ने मुलायम सिंह के साथ रामगोपाल पर भी निशाना साधा था। अमर का कहना था कि मुलायम सिंह यादव ने लोहिया के सिद्धांतों की बलि चढ़ा दी है। लोहिया ने कभी भाई-भतीजावाद को बढ़ावा नहीं दिया। मुलायम इसी को बढ़ावा दे रहे हैं। समाजवादी पार्टी में सिर्फ दो अपवाद थे। एक जनेश्वर मिश्र और दूसरे अमर सिंह। एक को राम जी खा गए तो दूसरे को रामगोपाल।

मुलायम को कहा था जोकर

अमर सिंह ने 21 फरवरी 2012 को कहा- यूपी के भ्रष्टाचार में मुख्यमंत्री मायावती और मुलायम सिंह यादव दोनों साझीदार हैं। मुलायम सिंह एक पहिए की साइकिल चलाने वाले जोकर हैं।

मुलायम के रेप वाले बयान पर कसा था तंज

अमर सिंह ने 12 अप्रैल 2014 को कहा- मुलायम सिंह ने बलात्कार पर बयान दिया है कि लड़के हैं। मन मचल जाता है। ऐसा लगता है कि मुलायम सिंह का वश चले तो रेप को भी जायज कर दें।

ब्लॉग से भी साधा निशाना

अमर ने तल्‍खी के दिनों में मुलायम पर निशाना साधा और यहां तक कह दिया था 14 साल तक वह उनके दर्जी और कूड़ेदान का काम करते रहे, लेकिन पार्टी से निकल जाने के बाद मुलायम अपनी अच्छी-बुरी राजनीति के खुद जिम्मेदार हैं। अमर ने अपने ब्लॉग पर लिखा था- मैंने कहा था कि मैं मुलायम का मात्र दर्जी और कूड़ेदान हूं। उनकी गलत-सलत नीतियों को नैतिकता का कपड़ा सिलकर संवारने का मैं 14 साल का अपराधी हूं, लेकिन दल की गलतियों का श्रेय लेने वाला कूड़ेदान अब मैं नहीं रहा।

अमर ने यह भी लिखा, ‘मुलायम अब आप अपनी अच्छी-बुरी राजनीति के अकेले दर्जी और कूड़ेदान खुद हैं। आपको अपनी भूमिका मुबारक और मेरे राजनीतिक निर्वाण के लिए शुक्रिया।

लोकसभा चुनाव में भी साधा निशाना

अमर ने लोकसभा चुनाव तक मुलायम पर कई तल्ख टिप्पणियां कीं। कभी उन्हें लोहिया वादी की जगह परिवार वादी करार दिया तो कभी सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव पर निशाना साधते हुए उन्हें अपने निष्कासन के लिए जिम्मेदार ठहराया।

 

Check Also

योगी के मंत्री ने बाहुबली विधायक विजय मिश्रा पर साधा निशाना, कहा- जिसके खिलाफ 73 मुकदमें हों वो अपराधी नहीं तो क्या है?

उत्तर प्रदेश के भदोही जिले की ज्ञानपुर सीट से विधायक विजय मिश्रा की गिरफ्तारी के …