अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द कराने हाई कोर्ट पहुंचे मिथुन दा

कोलकाता, 08 जून (हि.स.)। बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को रद्द कराने के लिए कलकत्ता हाई कोर्ट में दस्तक दी है। उन्होंने कोर्ट को बताया कि उन्होंंने कोई भड़काऊ भाषण नहीं दिया, बल्कि उन्होंने अपनी एक फिल्म का डायलॉग अपने चहेते समर्थकों के मनोरंजन के लिए बोला था।
दरअसल, पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान चक्रवर्ती के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के आरोप में कोलकाता के मानिकतला थाने में एफआईआर दायर की गई थी। अब चुनाव के एक माह बाद मिथुन चक्रवर्ती ने कलकत्ता हाई कोर्ट में अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की फरियाद की है। अब मिथुन चक्रवर्ती ने हाई कोर्ट में दायर अर्जी में दावा किया है कि राजनीतिक बदला लेने के लिए मुझ पर इस तरह के झूठे आरोप लगाए गए हैं। आरोप में कोई सच्चाई नहीं है। अभिनेता चक्रवर्ती ने सफाई दी कि 2014 में आई एक फिल्म में उनका यह मशहूर डायलॉग था, जो सिर्फ लोगों के मनोरंजन के उद्देश्य से उन्होंने बोला था। इसके पीछे कोई हिंसा की मंशा नहीं थी। उन पर आरोप लगाया गया था कि अपने डॉयलॉग से वह हिंसा का समर्थन कर रहे थे और भड़काऊ भाषण देकर समर्थकों को उकसा रहे थे।
उल्लेखनीय है कि चुनाव प्रचार के दौरान मिथुन चक्रवर्ती ने ब्रिगेड रैली में अपने फिल्म का लोकप्रिय डॉयलॉग, ‘मारूंगा यहां और लाश गिरेगी श्मशान में’ बोल कर खूब वाहवाही बटोरी थी।इस डायलॉग को लेकर टीएमसी युवा मोर्चा के एक सदस्य ने  कोलकाता के मानिकतला थाने में मिथुन चक्रवर्ती के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी। हालांकि मिथुन चक्रवर्ती चुनाव में कहीं से भी उम्मीदवार नहीं बने थे, लेकिन पूरे चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा उम्मीदवारों के समर्थन में जमकर प्रचार किया था।
 हिन्दुस्थान समाचार

Check Also

ड्रोन से देश के दुर्गम क्षेत्रों में पहुंचाई जाएंगी कोरोना रोधी टीके और दवाएं

नई दिल्ली : कोरोना की तीसरी लहर शुरू होने के पहले तक भारत की ज्यादातर आबादी …