अनूपपुर: युवाओं का पलायन रोकने के लिए रूर्बन मिशन उपलब्ध कराएगा आजीविका के साधन

अनूपपुर, 29 जनवरी (हि.स.)। आदिवासी विकासखंड के रूप में पहचाने जाने वाले जिले के पुष्पराजगढ़ विकासखंड में उद्योग, बेहतर कृषि और तकनीकि शिक्षा के अभाव में युवाओं के लगातार हो रहे पलायन को रोकने के लिए अब यहां स्थानीय स्तर पर गांव के युवाओं को तकनीकि बौद्धिक क्षमताओं से जोड़ा जा रहा है। जिसमें केन्द्र सरकार की रूर्बन मिशन योजना के तहत पुष्पराजगढ़ के 9 ग्राम पंचायतों के 16 गांवों में आजीविका से जोडऩे युवाओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है। इस योजना के तहत आदिवासी बाहुल्य गांवों में पलायन के साथ साथ तकनीकि शिक्षा, कृषि सहित सार्वजनिक परिवहन सेवाओं में युवाओं को आगे लाया जा रहा है। ताकि युवा गांवों से शहरों की ओर पलायन न कर गांवों में आधुनिक तकनीकि शिक्षा, कृषि और परिवहन सेवाओं में आगे आकर अपने बेहतर जीवन का निर्वहन कर सके।

रूर्बन मिशन योजना प्रबंधक अपूर्वा मिश्रा ने बताया कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन (ग्रामीण-शहरी) मिशन के अंतर्गत शामिल 300 जन-समुदायों में से 100 जन-समुदायों का विकास जनजातीय क्षेत्रों में किया जा रहा है। जिसका मुख्य उद्देश्य माइग्रेशन रोकना है। प्रदेश में 15 जिलों में 19 कलस्टर में यह कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। जिसमें प्रदेश के तीसरे चरण में अनूपपुर जिले को कलस्टर में शामिल करते हुए पुष्पराजगढ़ विकासखंड में इस योजना के तहत युवाओं में शिक्षा, कृषि, सार्वजनिक परिवहन, बेस्ट मेनेजमेंट पर कार्य किए जा रहे हैं। यह योजना 2019 से आरंभ हुए थे। जिसमें सामाजिक अद्योसंरचना को विकसित किया जा रहा है।

तकनीकि कृषि और ज्ञान से आय के स्रोत बढ़ाने पर जोर

बताया जाता है कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन (ग्रामीण-शहरी) मिशन के तहत युवाओं में तकनीकि ज्ञान में शिक्षा देने के साथ तकनीकि रूप में कृषि को भी बढ़ावा दिया जाना है। जिसमें कृषि में एग्रोपाल के तहत ट्रेनिंग, कृषि के तकनीकि साधन, प्रसंस्करण और विपणन की जानकारी दी जाती है। इसके फिलहाल टमाटर और कोदो प्रसंस्करण की जानकारी दी जा रही है।

विदित हो कि अनूपपुर के कोदो को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्रांडिंग के लिए प्रशासन द्वारा विधानसभा पटल के साथ स्थानीय बाजारों में भी रखा गया है। इसके अलावा दिल्ली के ट्रेड फेयर में भी सामर्थक रूझान सामने आए हैं। वहीं टमाटर की खेती पुष्पराजगढ़ में अधिक होने के कारण उसके सॉस के रूप में प्रोसेसिंग व पैकजिंग में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जबकि शिक्षा को डिजिटल के साथ समन्वय बनाते हुए आधुनिक तकनीकि साधन और शिक्षा को जोड़ा गया है।

सार्वजनिक परिवहन और सर्वोत्तम प्रबंधन पर बन रही योजना

युवाओं को ग्रामीण परिवहन सेवाओं के साथ सर्वोत्तम प्रबंधन से जोडऩे पर भी मिशन द्वारा कार्य योजना बनाई जा रही है। जिसमें फिल्टर प्लांट सहित नालियों की सफाई से जुड़ी योजनाएं हैं।

Check Also

तेलंगाना: मंत्री केटी रामाराव ₹4,200 करोड़ विदेशी निवेश करवाएंगे

हैदराबाद: तेलंगाना में आईटी एवं उद्योग मंत्री के टी रामाराव की ब्रिटेन और स्विट्जरलैंड में दावोस …