अनलॉक में रेस्टोरेंट तो खुले, पर नहीं हैं कोरोना संक्रमण से बचाव के पुख्ता इंतजाम

महामारी के बीच अब लोग रेस्टोरेंट में बैठकर खाना भी खा रहे हैं और मेट्रो व सार्वजनिक परिवहन का भी इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन, इस दौरान कोविड के संक्रमण का भी खतरा है। दरअसल, सभी रेस्टोरेंट में बचाव के पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। ऐसे में खुद ही सचेत रहते हुए अपना बचाव करना जरूरी है।

सभी जगह नहीं हो रहा प्रोटोकॉल का पालन : 
रेस्टोरेंट में अंदर जाने से पहले तापमान की जांच कर ग्राहक की स्क्रीनिंग करनी चाहिए। उसके फोन में आरोग्य सेतु एप होना चाहिए। अंदर जाने से पहले उसके हाथ सेनेटाइज किए जाने चाहिए। लेकिन राजधानी के सभी रेस्टोरेंट में इतने पुख्ता तरीके से बचाव के इंतजाम नहीं किए गए हैं। कुछ स्थानों पर तो खाना परोसने वाले भी पूरी तरह से कवर्ड मास्क नहीं लगा रहे हैं। ऐसे में रेस्टोरेंट जाते हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

बचाव के ये तरीके अपनाएं : 
अपने साथ सेनेटाइजर लेकर जाएं।
टेबल पर हाथ रखने और मेन्यू छूने के बाद फिर हाथ सेनेटाइज करें।
आपका खाना नहीं पहुंच जाता है, तब तक आप अपने मास्क को न उतारें।
ध्यान रखें कि रेस्टोरेंट में कितने लोग जा रहे हैं, जब कम लोग रहें तभी जाएं।
अगर आपको अपने हाथ से खाना है, तो हाथ को साबुन से अच्छी तरह धो लें।
खाना खाते समय अपने फेस को टच करने से बचें।
रेस्टोरेंट में भी सामाजिक दूरी बनाएं रखें।
आपकी बॉडी का तापमान अधिक है और जुकाम के लक्षण दिख रहे हैं तो रेस्टोरेंट में न जाएं।
डिजिटल पेमेंट करने की कोशिश करें, ताकि आप किसी चीज को न छुएं।
खाने से संक्रमण नहीं होता है लेकिन ध्यान रखें को रेस्टोरेंट ने खाना परोसते समय एहतियात रखा है या नहीं।

मेट्रो के इंतजाम :–
हालांकि, मेट्रो की तरफ से तो बचाव के पुख्ता इंतजाम गए हैं, लेकिन आप सफर करते हैं तो आपको भी अपने स्तर पर बचाव का ध्यान रखने की जरूरत है। क्योंकि मेट्रो एक बार सबकुछ सेनेटाइज करते हुए सफर शुरू करती है तो उसकी सवारियों को इसके बाद इंतजाम पर ध्यान देने की जरूरत है। इसलिए सिर्फ मेट्रो के इंतजाम तक की सीमित नहीं रहें। खुद भी सारे जरूरत उपायों का पालन करें।

मेट्रो में इन बातों का रखें ध्यान : 
बीमार हैं तो यात्रियों को मेट्रो में सफर करने की अनुमति नहीं होगी। परिसर में प्रवेश से पहले अपने शरीर के तापमान की जांच कराएं।

सफर के दौरान मास्क अनिवार्य रूप से पहनें। ट्रेन में एक-एक सीट छोड़कर लोगों की बैठने की व्यवस्था की गई है। इसका पालन करें।
कुछ भी छूने के बाद हाथों को सेनेटाइज करें और कोशिश करें कि हाथों से मुंह या नाक को न छुएं।

Check Also

फार्म हाउस पर गए बीजेपी सरकार के पूर्व मंत्री का अपहरण, ड्राइवर को भी गए आठ बदमाश, फिर…

Varthur Prakash Kidnapped: कर्नाटक के पूर्व मंत्री वार्थुर प्रकाश को आठ व्यक्तियों ने कथित रूप …