Sunday , July 21 2019
Home / Home / अजीबो गरीब शौक थे इन भारतीय राजाओं के, इनके शौक के बारे में जानकर हैरान रह जाओगे

अजीबो गरीब शौक थे इन भारतीय राजाओं के, इनके शौक के बारे में जानकर हैरान रह जाओगे

के हर इंसान का अपना एक शौक होता जो उसके हिसाब से सबसे अलग होता है। दोस्तों वैसे तो दुनिया में अजीबो गरीब शौक रखने वाले लोगो की कोई कमी नहीं है। और ये अपने अजीबो गरीब शौक की वजह से ही बाकि लोगों से अलग बनाते हैं। वैसे दोस्तों पुराने ज़माने में भी राजा महाराजाओं के वक्त में भी कई ऐसे राजा महराजा हमारे देश में पैदा हुए जिनके शौक दूसरों लोगो से काफी अलग थे। आज मैं आपको कुछ ऐसे ही अजीबो गरीब शौक रखने वाले राजाओं के और उनके शौक के बारे में बताने वाला हूँ।

1.महाराजा निज़ाम मीर उस्मान अली खां

हैदराबाद के महाराज निज़ाम मीर उस्मान अली खां के शौक भी कम नहीं थे। इन्‍हें कीमती जवाहरातों का बड़ा शौक था। दुनिया के पांचवें सबसे बड़े 184.97 कैरट के जैकब हीरों को एक पेपर वेट की तरह ये प्रयोग करते थे। इनके न रहने के बाद ये हीरें भारत सरकार के खजाने में जमा हो गए। हीरों के शौक की वजह से ही उनका करीब 2 बिलियन डॉलर खजाना था।

2. महाराजा महाबत रसूल खान

जूनागढ़ के यह राजा अपने अनोखे शौक के लिए प्रसिद्ध रहे हैं। उनको कुत्ते पालने का एक अनोखा शौक था। इस महाराज के पास करीब 800 कुत्ते थे। हर कुत्ते की सेवा में एक-एक सेवक हुआ करता था। इन कुत्तों का इलाज ब्रिटिश सर्जन से होता था। वह इन कुत्तों की शादी करवाने का शौक भी रखते थे। उस समय इस अनोखी शादी में करीब 22,000 रूपए खर्च होते थे, जो वर्तमान में करीब 2.25 करोड़ रूपए के बराबर हैं। साथ ही जिस दिन शादी होती थी, उस दिन राज्य में छुट्टी होती थी। किसी एक कुत्‍ते के मरने पर एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया जाता था।

3. महाराजा जगजीत सिंह

महाराजा जगजीत सिंह, कपूरथला के महाराज थे। महाराज जगजीत सिंह के शौक भी काफी अलग थे। वह लक्ज़री ब्रांड लुइ विटन के सबसे बड़े ग्राहक थे। उनके पास करीब 60 बड़े लुइ विटन के शानदार बक्से थे। यात्रा के बेहद शौकीन महाराज जगजीत सिंह हर जगह अपने साथ इन बक्‍सों को ले जाते थे।

4. महाराजा गंगा सिंह

बीकानेर के महाराज गंगा सिंह का अपनी जनता के प्रति प्रेम दर्शाने का तरीका काफी अलग था। इनके बारे में कहा जाता है कि वह गरीबों में सोना खूब बांटते थे। एक बार तो उन्‍होंने अपने वजन के बराबर सोना गरीबों को बांटा था।

5. महाराजा जय सिंह

अपने राजसी ठाट के लिए तो हर कोई राजा जाना जाता है, पर अलवर के महाराज जय सिंह मशहूर है, अपने ऐसे बदले के लिए, जिन्होंने इनका नाम इतिहास के पन्नों में अमर कर दिया। अलवर के महाराज जय सिंह ने नामी कार कंपनी रोल्स रॉयस से बदला लेने के लिए 10 कारों की छतें निकलवा कर उन्हें कूड़ा उठाने के लिए लगा दिया था। बाद में कार कंपनी को उनसे माफ़ी मांग कर उन्हें मनाना पड़ा था।

Loading...

Check Also

शीला दीक्षित की बीमारी से मौत के बाद जनपद में दौड़ी शोक की लहर

  फतेहपुर चौरासी/ उन्नाव। कांग्रेस की कद्दावर नेता व दिल्ली की पूर्व मुख्यमन्त्री शीला दीक्षित ...