अच्छी सेहत दिलाएगा मौसम के अनुकूल आहार, जानें कब क्या खाएं और क्या नहीं

देखा जाता हैं कि अक्सर लोग मौसम में बदलाव होते ही बीमार पड़ना शुरू हो जाते हैं जिसका कारण बनता हैं आपका आहार। जी हां, मौसम में बदलाव के साथ ही आप अपना पहनावा तो बदल लेते हैं लेकिन आहार में बदलाव पर ध्यान नहीं देते हैं और आहार का सीधा संबंध आपकी सेहत से होता हैं। हमारे देश में समय-समय पर मौसम बदलता रहता हैं और पूरे साल में की तरह की ऋतु देखने को मिलती हैं। आज इस कड़ी में हम आपको बताने जा रहे हैं कि पूरे साल में आपका आहार कैसा होना चाहिए ताकि इसका असर आपकी सेहत पर ना पड़े।

शिशिर ऋतु (जनवरी से फरवरी तक)

क्या खाएं
इन 2 महीनों में सर्दियां अपने चरम पर रहती हैं। ऐसे में घी का सेवन सेहत के लिए लाभदायक होता है। अदरक के साथ-साथ कुछ गर्म तासीर वाला खाना आप अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं। इसके अलावा सेंधा नमक, मूंग दाल की खिचड़ी आदि आपको दुरुस्त रखेगी।

क्या ना खाएं
इस मौसम में तला-भुना खाना खाने से बचें। साथ ही ठंडी प्रकृति वाला बादी भोजन और नॉन सीजनल फूड का सेवन न करें।

 

 

बसंत ऋतु (मार्च से अप्रैल तक)

क्या खाएं
इस मौसम में ठंड छटने लगती है। ऐसे में जौ, तोरई, केला, खीरा, हींग, ज्वार, गेहूं, चावल, मूंग, अरहर, मसूर की दाल, मूली, मेथी, जीरा, आंवला जैसे कफ नाशक पदार्थों का सेवन करें।

क्या ना खाएं
खट्टी मीठे चटपटे लोगों को इस मौसम में थोड़ा परहेज करने की जरूरत है। आलू, उड़द, सिंघाड़ा, खट्टे मीठे और चिकने पदार्थ इस मौसम में सेहत को हानि पहुंचा सकते हैं। बता दें कि अगर इस मौसम में इन पदार्थों का सेवन किया जाए तो कफ़ बढ़ने की समस्या हो सकती है।

ग्रीष्म ऋतु (मई से जून तक)

क्या खाएं
गर्मियों में पुराने गेहूं का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। इसके साथ ही सत्तू, खीर, दूध, ठंडे पदार्थ, कच्चे आम का पन्ना, करेला, परवल, ककड़ी, तरबूज आदि इन सब को अपनी डाइट में जोड़ें।

क्या ना खाएं
डॉक्टर्स हमें गर्मियों में ज्यादा तेल और मसालेदार भोजन से दूर रहने की सलाह देते हैं। इसके अलावा नमकीन, चटपटे पदार्थ, अधिक गर्म खाद्य पदार्थों का सेवन करने से हमें कब्ज की समस्या हो सकती है।

 

वर्षा ऋतु (जुलाई से सितंबर तक)

क्या खाएं
इस मौसम में पुराने चावलों की खिचड़ी, पुराने गेहूं, हल्के व सुपाच्य पदार्थों (ऐसा भोजन, जिसमें चिकनाई की मात्रा ना के बराबर होती है। का सेवन करना सेहत के लिए अमृत है।

क्या ना खाएं
डॉक्टर्स के अनुसार, बरसात में पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है। ऐसे में हम जितना कम खाना खाएंगे उतना अच्छा होता है। पत्तेदार सब्जियों से इस सीजन में थोड़ा दूर रहें।

शरद ऋतु (अक्टूबर से दिसंबर तक)

क्या खाएं
इस मौसम में आप भरपूर मात्रा में आहार ले सकते हैं। साथ ही घी, गुड़, चीनी, खीर आंवला, नींबू, अनार, नारियल, मुनक्का, गोभी आदि ऊर्जा देते हैं। इसलिए अपने खाने में इन्हें जरूर जोड़ें। साथ ही इस मौसम में गर्म दूध फायदेमंद होता है।

क्या ना खाएं
बासी चीजों का सेवन इस कसेली ठंडी में न करें। इसके अलावा भूखे रहने या उपवास न करें।

Check Also

ज्यादा अंडे खाने से बढ़ सकता है हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा, जानिए वजह

आजकल युवा अपने आप को फिट और तंदुरुस्त बनाये रखने के लिए अण्डों का सेवन …