Friday , March 22 2019
Home / देश / GST विभाग ने फिर से पकड़ा पंजाब के ई-वे बिलिंग का फर्जीवाड़ा

GST विभाग ने फिर से पकड़ा पंजाब के ई-वे बिलिंग का फर्जीवाड़ा

पानीपत/लुधियाना:पंजाब जी.एस.टी. विभाग की कारगुजारी पर फिर से हरियाणा के जी.एस.टी. विभाग ने सवालिया निशान लगा दिया है। गत 28 फरवरी को एक ट्रक जिसका (नंबर पी.बी.-10 डी.जैड-7589) को हरियाणा के जी.एस.टी. विभाग ने रात करीब 11 बजे घरौंडा शहर में रोका। जांच करने पर पता चला कि 28 फरवरी को ही इसी गाड़ी पर पंजाब में 7 घंटों के भीतर 6 बार ई-वे बिल काटे जा चुके हैं। अधिकारियों ने गाड़ी जब्त कर ली और उसके असली दस्तावेजों को लाने के लिए ट्रक ड्राइवर से कहा गया। मंडी गोङ्क्षबदगढ़ में ट्रांसपोर्ट कंपनी गुरप्रीत रोड लाइन के मालिक लवली सिंह ने जब हरियाणा के अधिकारियों को सारे दस्तावेज दिखाए गए तो उन्होंने पाया उनकी गाड़ी ने मंडी गोङ्क्षबगदगढ़ की कंपनी श्री सालासर ट्यूब प्रा.लि. का माल 26 फरवरी को लोड किया था और इसे दिल्ली में अरोड़ा एंड कंपनी को डिलीवर करना था। मगर ट्रक में खराबी आने के कारण 27 तारीख को ट्रक दिल्ली के लिए रवाना किया गया।

अधिकारियों ने फर्जी ई-वे बिल की रिपोर्ट पंजाब जी.एस.टी. विभाग और पुलिस में दर्ज करवाने को कहा। ट्रक मालिक ने फतेहगढ़ साहिब के ए.ई.टी.सी. मगनेश सेठी व एस.एस.पी. फतेहगढ़ साहिब को लिखित में ट्रक ड्राइवर अनिल कुमार से शिकायत दिलाई, जिसकी कापी हरियाणा के जी.एस.टी. विभाग के अधिकारियों को दिखाई गई और 9 दिन बाद गाड़ी को छोड़ा गया। मामला सामने आने के बाद भी पंजाब का जी.एस.टी. विभाग इस तरह शांतमय ढंग से बैठा है जैसे कुछ हुआ ही नहीं है। लिखित शिकायत व फर्जी ई-वे बिलों की कॉपी जब पंजाब केसरी के पास पहुंची तो जांच करने पर पता चला कि उक्त गाड़ी नंबर पर ही 28 फरवरी को दोपहर 12.27 बजे से देर शाम 7.58 बजे तक 6 अलग-अलग कंपनियों ने फर्जी ई-वे बिल काटकर माल मंडी गोङ्क्षबदगढ़ से लुधियाना और मोहाली भेजा है, जबकि यह गाड़ी हरियाणा के घरौंडा शहर में हरियाणा जी.एस.टी. विभाग के पास खड़ी थी।

एस.जी. मल्टीमैटल को दोपहर 12.27 बजे 14.53 लाख रुपए का स्टील का बिल काटा। मंडी गोङ्क्षबदगढ़ की ही एस.जी. मल्टीमैटल ने मोहाली की स्काई लार्क कंपनी को दोपहर 2.51 बजे 17.04 लाख रुपए का स्टील का बिल काटा। के.टी. मल्टीमैटल मंडी गोङ्क्षबदगढ़ ने मंडी गोङ्क्षबदगढ़ की ही एस.डी. एलॉय मैटल को दोपहर 2.54 बजे 8.83 लाख रुपए का स्टील का बिल काटा। एच.डी. एंटरप्राइजिज मंडी गोङ्क्षबदगढ़ ने मंडी गोङ्क्षबदगढ़ की ही बलदेव कृष्ण गुप्ता एंड कंपनी को शाम 3.59 बजे 8.87 लाख रुपए का स्टील का बिल काटा। गुरदेव ओवरसीज लि. मंडी गोङ्क्षबदगढ़ ने लुधियाना की मनमीत एलॉय प्रा.लि. को शाम 4.53 बजे 10.63 लाख रुपए का स्टील का बिल काटा।

भगवती स्टील मंडी गोङ्क्षबदगढ़ ने मंडी गोङ्क्षबदगढ़ की ही शिवम स्टील को रात 7.58 बजे 18.37 लाख रुपए का स्टील का बिल काटा। सबसे बड़ा सवाल यह कि पंजाब जी.एस.टी. विभाग के कई फर्जीवाड़े के केस हरियाणा जी.एस.टी. विभाग पकड़ चुका है। एक दिन में एक ही गाड़ी नंबर पर 7 घंटे में 78.27 लाख रुपए के बिल काटे जा रहे हैं और अधिकारियों को कुछ पता भी नहीं चल पा रहा। यदि पता ही नहीं चल सकता तो ऑनलाइन ई-वे बिल की क्या जरूरत है। इसे इसी लिए लागू किया गया था ताकि टैक्स चोरी का पता चल सके। मगर अधिकारियों की आंखों के सामने सब कुछ हो गया और उन्हें कोई खबर तक नहीं हो पाती। इससे साफ है कि या तो अधिकारी लापरवाह है या अपनी जेबें गर्म करने के चक्कर में सब कुछ देखकर आंखें मूंदें बैठे हैं।

Loading...

Check Also

देशभर के 25 लाख चौकीदारों को ऑडियो ब्रिज के जरिये पीएम करेंगे संबोधित

पिछले आम चुनाव में जनता के बीच चायवाला की छवि के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ...