Home / home / EVM-VVPAT की विश्वसनीयता पर फिर उठे सवाल, सुप्रीम कोर्ट की तैयारी में विपक्ष

EVM-VVPAT की विश्वसनीयता पर फिर उठे सवाल, सुप्रीम कोर्ट की तैयारी में विपक्ष

नई दिल्ली:आज ईवीएम को लेकर विपक्ष की बैठक हुई। पहले चरण की वोटिंग के बाद विपक्षी दलों में ईवीएम का मुद्दा एक-बार फिर से गर्माया है। चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन EVM और VVPAT की विश्वसीनता फिर से सवालों के घेरे में हैं। कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ईवीएम पर सवाल खड़े करते हुए आरोप लगाया कि चुनाव आयोग इस पर ठीक से ध्यान नहीं दे रहा। दलों ने ईवीएम के मुद्दे पर एकबार फिर से सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही है। EVM और VVPAT में टैंपरिंग के मुद्दे पर रविवार को विपक्षी दलों ने बैठक की। बैठक में कम से कम छह विपक्षी दलों ने शिरकत की। दलों ने EVM पर सवाल उठाते हुए बैलट पेपर से वोटिंग की वकालत की। बीजेपी ने विपक्ष की इस बैठक को हार स्वीकार करने वाला बताया है। पहले फेज में यह हाल है तो अब अगले 6 फेज में क्या होगा। ईवीएम को लेकर विपक्षी दलों की बैठक के बाद कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि अब विपक्ष EVM में छेड़छाड़ और खराबी के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी। उन्होंने कहा, कांग्रेस इस मामले में जरूरी कानूनी कदम उठाएगी और विपक्ष के बाकी दलों के नेता जमीनी स्तर पर इस मुद्दे को उठाएंगे।

अभिषेक मनु सिंघवी ने आगे कहा, चुनाव आयोग ने कहा है कि अगर सभी VVPAT स्लिप्स का EVM से मिलान किया जाता है, तो नतीजे आने में पांच दिन लेट हो जाएगा। हमने निर्वाचन आयोग (ईसी) से गुजारिश की है कि वो अपनी टीम की सदस्य बढ़ाए, ताकि गिनती और मिलान का काम वक्त पर पूरा हो सके।’ सिंघवी ने ये भी कहा कि आयोग को चुनाव प्रक्रिया में काफी बदलाव की जरूरत है।

विपक्ष पार्टियों की प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, पहले चरण के चुनाव के बाद सवाल उठाए गए थे, हमें नहीं लगता कि चुनाव आयोग इसपर पर्याप्त ध्यान दे रहा है। अगर आप X पार्टी को वोट देते हैं तो वोट Y पार्टी को जाता है। वीवीपैट भी 7 सेंकंड की जगह केवल 3 सेकंड दिखता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा, लाखों वोटर्स के नाम बिना-जांच पड़ताल के ही ऑनलाइन हटा दिए गए। चुनाव आयोग को पार्टियों ने लंबी लिस्ट सौंपी है। अब यह और जरूरी हो गया है कि कम से कम 50 फीसदी वीवीपैट ट्रेल का मिलान किया जाए। हम इसके लिए सुप्रीम कोर्ट जाएंगे।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- हम ईवीएम के मुद्दे पर फिर से सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। बहुत कम देश ईवीएम का इस्तेमाल कर रहे हैं। हमें भी इसका विकल्प देखना चाहिए। नायडू ने इसके साथ ही कहा, आंध्र प्रदेश के चुनाव पूरे हो चुके हैं और मैं अब देश के लिए, चुनावों में पारदर्शिता के लिए लड़ रहा हूं। VVPAT पर इतने पैसे क्यों खर्च किए जा रहे हैं, जब उन्हें गिना ही नहीं जाएगा।

Loading...

Check Also

चुनाव आयोग ने किया साफ-कहा- मतदान के दूसरे दिन किसी की छुट्टी नहीं

मुंबई:चुनाव आयोग ने साफ किया है कि मतदान के दूसरे दिन किसी की छुट्टी नहीं ...