Home / मनोरंजन / हौसलें हो अगर बुलंद तो मुट्ठी में हर मुकाम है, मुश्किलें और मुसीबतें तो जिंदगी में आम है

हौसलें हो अगर बुलंद तो मुट्ठी में हर मुकाम है, मुश्किलें और मुसीबतें तो जिंदगी में आम है

अपना घर कैसा भी हो बिना कोसे किसी को तुम रह लेना,

जो कहने आए हो दिल से उसे बेहिचक साफ साफ कह देना,

जब सितम ढाए वक्त के थपेड़ों और परिस्थितियां तो डरकर,

खामोशी से भागना नहीं हंसी खुशी के साथ उसे सह लेना।

कहूं क्या जिंदगी के अंधेरे में खुद को थामे खड़ा हूं मैं,

वक्त कहता है न जाने कितना तुझसे बड़ा हूं मैं।

जिंदगी में कभी मायूस होकर ना बैठ जाना मेरे दोस्त,

सकूं के लिए ना जाने कितना परिस्थितियों से लड़ा हूं मैं।

जिंदगी का हर पल लम्हा लम्हा यूं ही गुजर जाएगा,

मुट्ठी से रेत फिसलने के बाद तेरा हाथ खाली रह जाएगा।

जब तक वक्त है तेरे पास तू इसे कहीं भी जाया ना कर,

जो आज का चला गया वक्त यह वापस लौट कर नहीं आएगा।

 

आप ऊपर से गुस्सा और सच्चे दिल से प्यार करते हो,

हर लम्हा नजरें चुरा कर तन्हाई में दिल बेकरार करते हो।

कितना भी लाख छुपाओ हो तुम दुनिया से मुझे मालूम है,

के तुम हमेशा मुझे अपने आप से भी ज्यादा प्यार करते हो।

Loading...

Check Also

साहो को मिले रिस्पॉन्स से श्रद्धा कपूर अचंभित

मुंबई : बाहुबली की वल्र्डवाइड कमाई और प्रभास के सुपरस्टारडम को देख माना जा रहा ...