Thursday , December 13 2018
Home / 18+ / सुनहरे जाल में फंसा डीआरडीओ का वैज्ञानिक

सुनहरे जाल में फंसा डीआरडीओ का वैज्ञानिक

धन और सुंदर रूपयौवन का लालच ऐसा है जिस से कोई बच नहीं सकता. शातिर किस्म के लोग कहीं धन दिखा कर तो कहीं सुंदर यौवन दिखा कर सुनहरा जाल फेंकते हैं और मनचाहा शिकार फांस ही लेते हैं. इस जाल में फंसने से विरला ही कोई हो जो बच सके. रामायण की कथा के नायक और त्रिकालदर्शी कहे जाने वाले राम ही जब सोने के हिरण के भ्रम में फंस कर अपनी पत्नी सीता को गंवा बैठे तो आम इंसान की क्या औकात है.

आजकल हनीट्रैप के मामले भी ऐसे ही हैं. आए दिन नए राम फंस रहे हैं पर यह मामला जरा गंभीर किस्म का है. देश की सुरक्षा से जुड़ा हुआ है. महाराष्ट्र एटीएस ने डीआरडीओ के सीनियर सिस्टम इंजीनियर निशांत अग्रवाल को गिरफ्तार कर पाकिस्तान की आईएसआई के लिए जासूसी करने का खुलासा किया है. निशांत फेसबुक पर पाकिस्तान की फर्जी महिला के जाल में फंस गया था. उसे हाल ही में युवा इंजीनियर का अवार्ड भी मिला था.

निशांत अग्रवाल पाकिस्तान की दो महिलाओं के फर्जी नाम से बने फेसबुक अकाउंट से उन के जाल में फंसा हुआ था. उस की इन ‘महिलाओं’ से चैटिंग होती थी. चैटिंग के दौरान उस ने अपनी मिसाइल यूनिट से कई गोपनीय जानकारियां जुटानी शुरू कर दीं. इन में से कुछ जानकारियां पाकिस्तान तक पहुंचाने की बात सामने आई है.

निशांत मिसाइल यूनिट में सीनियर सिस्टम इंजीनियर है. वह नागपुर में डीआरडीओ की ब्रह्मोस यूनिट में कार्यरत था. उस के पास यहां की कई तकनीकी गोपनीय जानकारियां रहती थीं. गोपनीय जानकारियों को उस ने अपने निजी लैपटोप और मोबाइल में सेव कर रखा था.

उत्तरप्रदेश और महाराष्ट्र एटीएस उस से पूछताछ कर रही है. निशांत के अलावा जासूसी के शक में डिफेंस मैटेरियल एंड स्टोर्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेबलिशमेंट [डीएमएसआरडीई] कानपुर के दो वैज्ञानिकों से भी पूछताछ की गई. दोनों वैज्ञानिक ब्रह्मोस से संबंधित बेहद संवेदनशील पार्ट्स को विकसित करने वाली तकनीक से जुड़े हैं. एटीएस ने एक महिला वरिष्ठ वैज्ञानिक को हिरासत में लिया है. पूछताछ के बाद उस का लैपटोप भी सीज किया है. संस्थान के इन वैज्ञानिकों को भी फेसबुक के जरिए ट्रैप किया गया. एटीएस को शक है कि ब्रह्मोस से जुड़ी टैक्नोलौजी को लीक किया गया है.

पिछले दिनों बीएसएफ के जवान अच्युतानंद मिश्रा को भी पाकिस्तान के लिए जासूसी के इल्जाम में पकड़ा गया था. उसे इसी तरह जाल में फंसाया गया था. अच्युतानंद की गिरफ्तारी के बाद फेसबुक आईडी से कई दोस्तों की पड़ताल की गई तो निशांत का पता चला. जांच पड़ताल के दौरान पाकिस्तान की दो और महिलाओं के नाम से बनी फर्जी फेसबुक आईडी पर कई राज्यों के और लोग भी चैटिंग कर रहे हैं.

यूपी एटीएस का कहना है कि उस की जांच में पता चला है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई खूबसूरत लड़कियों की फर्जी फेसबुक आईडी बना कर केंद्रीय बलों और वैज्ञानिक संस्थानों के लोगों को प्रेमजाल में फंसा कर जासूसी करा रही है.

आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में डीआरडीओ के इंजीनियर निशांत अग्रवाल की गिरफ्तारी एक कर्मचारी पर ही नहीं, सरकार और समूचे समाज व्यवस्था पर सवाल उठाती है? डीआरडीओ देश की रक्षा से जुड़ा एक महत्वपूर्ण सरकारी संस्थान है. इस के एक वरिष्ठ अधिकारी पर जासूसी का आरोप बहुत गंभीर बात है.

सरकारी पद पर बैठने वाले व्यक्ति को किसी भी तरह के लालच से दूर रहने की कोई माकूल व्यवस्था नहीं है. ईमानदार, वफादार, कर्तव्यनिष्ठ रहने की न तो हमारे समाज ने ऐसी कोई ट्रेनिंग दी और न ही सरकार ने. कहने को उन के लिए नियमकायदे, आचारसंहिता बनी हुई है पर उस की परवाह कौन करता है.

लालच बुरी बला है, जैसी सूक्तियां सिर्फ दीवारों पर शोभा देती हैं. वास्तविक जीवन में इन सूक्तियों को लोग नहीं अपनाते. गिफ्ट, इनाम, धन दोगुना करने जैसे लालच में लोग आए दिन फंसते हैं.

हालांकि धर्म के प्रवचनों में तमाम तरह की अच्छी सीखें बताई गई हैं पर धर्म की अच्छी सीखें खुद ही एक तरह का जाल ही हैं जो भक्तों को फंसाता है और प्रवचनकर्ता, गुरु को फायदा पहुंचाता है. यह सुनहरी अच्छी सीखों का जाल गुरु, प्रवचनकर्ता ही फेंकता है जो भक्तों को धनदौलत त्याग करने की सलाह देता है और स्वयं स्वर्ण सिंहासन पर बैठता है, एसी गाड़ी में चलता है. धर्म सब से बड़ा सुनहरा जाल है.

जिम्मेदार पद पर बैठे कर्मचारी को कोई भी रूप यौवन, धन का लालच दे कर अपने जाल में फंसा ले, यह शासन, प्रशासन ही नहीं, समाज व देश के लिए भी गंभीरता से सोचने की बात है.

Loading...

Check Also

सेक्स में इन पोजीशन का करें इस्तेमाल, ले सकेंगे चरम सुख

आदमियों का मोटा होना हर में समस्या पैदा करता है. ऐसे में मोटापे को आसानी ...