Saturday , November 17 2018
Home / Featured / सिग्नेचर ब्रिज : मनोज तिवारी और आप विधायक अमानतुल्ला के बीच ताना-तानी

सिग्नेचर ब्रिज : मनोज तिवारी और आप विधायक अमानतुल्ला के बीच ताना-तानी

सिग्नेचर ब्रिज विवाद में दिल्ली पुलिस को आप विधायक अमानतुल्लाह खान और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी के खिलाफ शिकायतें मिली हैं। दोनों पर हाथापाई, गाली-गलौज और सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप हैं।

शिकायतों के संबंध में आज सुबह जॉइंट सीपी रवींद्र यादव ने बताया कि शिकायतों पर जांच जारी है। फिलहाल कोई केस दर्ज नहीं किया गया है। रविवार तक यह विडियो वायरल हो रहा था कि अमानतुल्लाह खान ने स्टेज के पास खड़े मनोज तिवारी को धक्का दिया। दूसरी ओर मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ऐसा भी विडियो और फोटोग्राफ्स सामने आ रहे हैं कि जिसमें मनोज तिवारी पुलिस अधिकारियों से धक्का-मुक्की करते नजर आ रहे हैं। हाथ उठा रहे हैं। एक फोटो में डीसीपी (नॉर्थ ईस्ट) अतुल ठाकुर से उलझते नजर आ रहे हैं। उनके हाथ डीसीपी के कॉलर पर हैं।

दिल्ली में 13 साल बाद बनकर तैयार हुए सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन समारोह में जमकर राजनीति हुई.आप और बीजेपी के बीच श्रेय लेने की होड़ ने नाटकीय मोड़ ले लिया.जहां दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी पुलिसवालों से हाथापाई करते नज़र आए..तो वहीं आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला ख़ान मनोज तिवारी को मंच से धक्का दे दिया. अपने ऊपर हाथापाई के लगे आरोपों को बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने नकार दिया. उन्होंने कहा-हमने कोई हाथापाई नहीं की | मनोज तिवारी ने ये भी कहा है कि आप विधायक ने उन्हें गोली मारने की धमकी दी थी |

इस बाबत दोनों नेताओं के समर्थकों ने थाने में शिकायत दी हैं, जिनकी बिनाह पर उस्मानपुर और नेब सराय थाने में डीडी एंट्री दर्ज हो चुकी है। उस्मानपुर थाने में खुद को बीजेपी कार्यकर्ता बता रहे विमल सिंह ने शिकायत दी है कि सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन कार्यक्रम में आप कार्यकर्ताओं ने उनके ऊपर हमला किया। उन्हें उठाकर डिवाइडर के दूसरी साइड गिरा दिया, जिससे उनके हाथ में गंभीर चोट आई है। एक बीजेपी कार्यकर्ता ने नेब सराय थाने में शिकायत दी है कि अमानतुल्लाह खान ने मनोज तिवारी के साथ धक्का-मुक्की और गाली-गलौज की।

क्या बोले पार्टी विधायक अमानतुल्लाह

आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान ने कहा,” जब वह (मनोज तिवारी) स्टेज पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थे तो मैने उन्हें रोकने की कोशिश की. हालांकि, मैने उन्हें कोई धक्का नहीं दिया. जिस ढंग से वह एक्शन में थे, अगर वह मंच पर चढ़ने में सफल हो जाते तो वह मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री से बदसलूकी या हमला कर सकते थे.” विधायक ने आगे कहा कि सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन समारोह में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी आमंत्रित नहीं थे, फिर फिर वह समर्थकों के साथ आए. वह हमारे पोस्टर्स और होर्डिंग्स फाड़ रहे थे. काला झंडा दिखाने के साथ हमारे कार्यकर्ताओं पर हमले कर रहे थे. जब अरविंद केजरीवाल मंच पर आए तो वे भी मंच के नजदीक आ गए, मगर पुलिस ने रोका नहीं.

गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार की शाम(4 नवंबर) सिग्नेचर ब्रिज का उद्घाटन किया. इस मौके पर उनके साथ डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और दिल्ली सरकार के अन्य मंत्री व विधायक भी मौजूद थे. सीएम की ओर से उद्घाटन किए जाने से पहले बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने जमकर बवाल काटा. उन्होंने इस दौरान आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा खुदपर हमले की बात कही.मनोज तिवारी का आरोप है कि जब वह उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान स्टेज के पास पहुंचे तो उनके खिलाफ पहले आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने नारे लगाए और बाद में उनके साथ बदसलूकी की. खास बात यह है कि दिल्ली सरकार की तरफ से उन्हें उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए न्यौता नहीं दिया गया था.

Loading...

Check Also

उत्तर प्रदेश के कर्मचारियों चिकित्सा प्रतिपूर्ति भी बन्द

लखनऊ। उच्च न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के राज्य कर्मचारियों को ...