Home / देश / सह नहीं पाया बेटा और कर ली खुदकुशी,पबजी खेलने पर परिजन ने लगाई डांट

सह नहीं पाया बेटा और कर ली खुदकुशी,पबजी खेलने पर परिजन ने लगाई डांट

आजकल कई अपराध के मामले सामने आ रहे हैं जो हैरान करने वाले हैं. इसमें पबजी गेम के भी कई मामले हैं जो हैरान करने वाले हैं. वहीं आज के समय में मोबाइल पर गेम खेलना अब जानलेवा बनता जा रहा है लेकिन इसके बाद भी इस पर प्रतिबंध नहीं लग रहा है. अब इसी कड़ी में बिहार के भागलपुर में हबीबपुर थाना क्षेत्र के दाउदबॉट मोहल्ले में मोबाइल पर पब्जी खेल रहे किशोर बेटे को मां-बाप ने डांटा तो इकलौते किशोर बेटे ने गले में फंदा डालकर खुदकुशी कर ली. जी हाँ, मिली खबरों के मुताबिक़ इस मामले में अधिवक्ता रामविलास यादव का इकलौता बेटा पीयूष कुमार (17) इसी साल प्रथम श्रेणी से इंटर की परीक्षा पास की थी.

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस दाउदबॉट पहुंचकर घटना की जांचकर शव को कब्जे में ले लिया. वहीं इस मामले में जो रिपोर्ट दर्ज की गई है उसमे पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. खबरों के मुताबिक़ इस मामले में परिवार वालों का कहना है कि ”इंटर परीक्षा के बाद पीयूष दिनभर मोबाइल पर पबजी गेम खेलते रहता था और खाने और सोने की भी उसे चिंता नहीं थी. रात में छत पर गेम खेल रहा था. मां ने कई बार आवाज लगाकर खाने के लिए बुलाई लेकिन वह नहीं आ रहा था. कह रहा था मूड ठीक नहीं है. टेंशन में हूं.”

खबरों के मुताबिक़ मां के डांटने के बाद पिता ने भी बेटे को फटकार लगाई और उसके बाद वह कमरे में बंद हो गया. वहीं इस मामले में उसने सुसाइड नोट लिखकर गले में गमछा बांधकर पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली. इस मामले में सुबह घटना की जानकारी मिलने पर घर में आतंक फ़ैल गया और पोस्टमार्टम हाउस में सुसाइड नोट मिला. अब इस मामले में जांच जारी है.

Loading...

Check Also

रोड दुघर्टना में मरने वालों की उम्र १८-२५ साल वालों की- गडकरी

केंद्रीय मंत्री माइक्रो स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज व रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज नितिन गडकरी ने टीसीई सेफ सफर काअनावरण किया।कार्यक्रम में टीसीआई के डॉक्टर डी पी अग्रवाल, श्री विनीत अग्रवाल और श्री चन्दर अग्रवाल भी उपस्थित थे। गडकरी ने विशेष तौर से बने हुए पारिस्थितिकी अनुकूलित ट्रक का अनावरण कर टी सी आई को इसके लिए बधाई देते ए कहा “मैं सबसे पहले टीसीआई को इस प्रयास के लिए बधाई देता हूँ जो लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से टी सी आई सेफ सफर को ले कर आये हैं।हमारे देश में हर साल ५ लाख एक्सीडेंट होते हैं जिसमें १.५ मृत्यु होती हैं और अधिकतर मृतकों की आयु १८ से २५ होती है. इसके कारण कई परिवार बर्बाद तो होते ही हैं और जी डी पी भी ३% गिरती है। अगर सब इसमें सावधानी बरतें तो यह खबरें आनी बंद हो जाएँगी।