Sunday , March 24 2019
Home / हेल्थ &फिटनेस / शहद खाने के अदभुत फायदे और नुकसान जानकर रह जायेंगे दंग

शहद खाने के अदभुत फायदे और नुकसान जानकर रह जायेंगे दंग

शहद(Honey Benefits) एक मीठा तरल मधुमक्खियों द्वारा निर्मित अमृत है जो वे ऊर्ध्वनिक्षेप और वाष्पीकरण की जटिल प्रक्रिया के साथ फूलों के माध्यम से इकट्ठा करती हैं। शहद ग्लूकोज़, फलशर्करा (fructose) और खनिजों जैसे लोहा, कैल्शियम, फॉस्फेट, सोडियम, क्लोरीन, पोटेशियम, मैग्नीशियम से बना है। यह विटामिन बी 1, बी 2, बी 3, बी 5 और बी -6 में भी काफी समृद्ध है।

शक्तिशाली एंटीसेप्टिक (रोगाणु रोधक), एंटीबायोटिक (प्रतिजीवाणु) और चिकित्सा गुणों की उपस्थिति के कारण, शहद (Honey Benefits) कई आम स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए दवा के रूप में प्रयोग किया जाता है। तो आइए जानें शहद के बारे में।

कई अध्ययनों से पता चला है कि शहद (Honey Benefits) खांसी के लिए कही अधिक कारगर उपाय है, दूसरी अन्य खांसी की दवाओं की तुलना में। शहद में मज़बूत जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो कि खराब गले को आराम देते हैं और ऐसे बैक्टीरिया को ख़त्म करने में मदद करते हैं जो संक्रमण का कारण होते हैं। खांसी से जल्दी राहत के लिए, ताज़ा नींबू के रस और शहद के एक बड़े चम्मच का मिश्रण तैयार करें और नियमित अंतराल पर इस घोल को पीते रहें। आप शहद, नींबू का रस और गुनगुने पानी के एक गिलास में नमक की एक चुटकी डालकर भी मिश्रण तैयार कर सकते हैं और इसका इस्तेमाल गरारे करने के लिए कर सकते हैं।

 

  • शहद और नींबू हैं खांसी का इलाज

कई अध्ययनों से पता चला है कि शहद (Honey Benefits) खांसी के लिए कही अधिक कारगर उपाय है, दूसरी अन्य खांसी की दवाओं की तुलना में। शहद में मज़बूत जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो कि खराब गले को आराम देते हैं और ऐसे बैक्टीरिया को ख़त्म करने में मदद करते हैं जो संक्रमण का कारण होते हैं। खांसी से जल्दी राहत के लिए, ताज़ा नींबू के रस और शहद के एक बड़े चम्मच का मिश्रण तैयार करें और नियमित अंतराल पर इस घोल को पीते रहें। आप शहद, नींबू का रस और गुनगुने पानी के एक गिलास में नमक की एक चुटकी डालकर भी मिश्रण तैयार कर सकते हैं और इसका इस्तेमाल गरारे करने के लिए कर सकते हैं।

 

  • शहद देता है ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा 

शहद(Honey Benefits) तुरंत आपके ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा दे सकता है। शहद में प्राकृतिक शर्करा के कारण, यह कैलोरी और ऊर्जा का एक स्वस्थ स्रोत प्रदान करता है जब शरीर को इनकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है।

यह आसानी से थकान से लड़ता है और कम ऊर्जा की समस्या को हल करता है। साथ ही शहद(Honey Benefits) शरीर की कुछ मीठे की लालसा को संतुष्ट करता है। इसका मतलब यह है कि आप अतिरिक्त वज़न की चिंता किए बिना शहद का उपयोग कर सकते हैं। अगली बार जब आपका कुछ मीठा खाने का मन हो, तो बस कच्चे, जैविक शहद (organic honey) की एक चम्मच खाएँ।

  • शहद और मोटापा

शहद में विटामिन, खनिज और एमिनो एसिड होता है। ये सभी तत्व वसा और कोलेस्ट्रॉल के चयापचय को बढ़ावा देने के लिए एक साथ काम करते हैं। इससे शरीर के वज़न को बनाए रखने और मोटापे को रोकने में मदद मिलती है।यह पाया गया है कि सुबह के समय खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी के साथ शहद (Honey Benefits) और नींबू का रस पीने से वज़न कम होता है। ऐसे करने से जिगर की सफाई, विषाक्त पदार्थों को हटाने और शरीर से वसा को बाहर करने में मदद मिलती है।

  • शहद के नुकसान

इन सभी स्वास्थ्य लाभ के कारण, शहद(Honey Benefits) को अपनी आहार योजना में शामिल करना अच्छा है। लेकिन, एक वर्ष से कम उम्र के बच्चों को शहद नहीं देना चाहिए क्योंकि इससे शिशु बोटुलिज़्म हो सकता है। इसका अर्थ है की शिशु के शरीर में विषाक्तता हो जाती है जिससे उनकी मांसपेशियाँ कमज़ोर हो जाती हैं और उन्हें साँस लेने में भी परेशानी होती है।

शहद की अत्यधिक मात्रा गंभीर पेट की परेशानी का कारण बन सकता है। फ्रुक्टोज़ से युक्त होने के कारण, यह आपकी छोटी आंत के पोषक तत्वों की अवशोषण क्षमता को बाधित कर सकता है। यह आपकी जठरांत्र प्रणाली पर भी दीर्घकालिक प्रभाव छोड़ सकता है और कई गैस्ट्रिक मुद्दों का कारण बन सकता है जैसे सूजन, गैस, ऐंठन आदि। कभी-कभी यह दस्त या पेट की ख़राबी जैसी गंभीर स्थिति की ओर भी ले जाता है।

कच्चे शहद (Honey Benefits) का सेवन हल्की एलर्जी भी दे सकता है। यह फूलों का असंसाधित अमृत है जिसमें पराग, कीटनाशक और अन्य रसायन हो सकते हैं। इसका प्रत्यक्ष उपभोग एलर्जी के लक्षणों जैसे सूजन, खुजली, चकत्ते, पित्ती, खाँसी, दमा, श्वास की मुसीबतें, निगलने में कठिनाई का कारण बन सकता है।

कच्चे शहद (Honey Benefits) में ग्रायनोटौक्सिन्स नामक रासायनिक यौगिक होते हैं जो हमारे तंत्रिका तंत्र के लिए ज़हरीले होते हैं। सामान्य रूप में, यह विषाक्त पदार्थ पाश्चराइज़ेशन (pasteur

Ization) के दौरान भोजन से निकल जाते हैं। लेकिन जब कच्चे शहद का सेवन किया जाता है, वे हमारी तंत्रिका कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे हमारे तंत्रिका तंत्र की सामान्य गतिविधियों पर असर हो सकता है।

  • शहद की पहचान कैसे करें 

एक काँच के गिलास में पानी लें और उसमें एक चम्मच शहद मिला लें। अगर शहद पानी में घुल जाएगा, तो वह मिलावटी है। अगर वह सतह पर बैठ जाएगा, तो वो असली है

Loading...

Check Also

इस फल से जबरदस्त फायदे होते हैं, फायदे जानकर हैरान रह जाओगे

जब किसी व्यक्ति या फिर महिला को कब कौन सी बीमारी हो जाए कुछ कहा ...