Monday , June 17 2019
Home / देश / शराब पीने पर ही नहीं बल्कि रखने पर भी मिलेगी इतने सालों की सजा, जानकर हैरान हो जाओगे…

शराब पीने पर ही नहीं बल्कि रखने पर भी मिलेगी इतने सालों की सजा, जानकर हैरान हो जाओगे…

नशा एक ऐसी लत है जिसे ये लत लग जाती है वो उससे दूर रह नहीं पाता है पर नशा तो बुरा है. चाहे फिर वो शराब का हो या फिर सिगरेट का. नशा तो नशा होता है बस बुरा होता है.जिसको इसकी लत लग गई हो वो इससे खुद को दूर रख नहीं पाता है. नशा बुरा है फिर भी हर गली नुकड़ पर इसके कारोबारी बैठे है जो नशा बेच रहे है. शराब की लत से आधे से ज्यादा दुनिया परेशान है और इसी वजह से सरकार भी शराब पर रोक लगाने जैसे कदम उठा रही है लेकिन जिन्हें इसकी लत लगी हुई है वो इस लत से दूर नहीं हो पाते है और शराबबंदी को भी पूरी तरह से लागू नहीं होने देते है.कई देशों में शराब पर पूरी तरह से पांबदी लग चुकी है तो कई देश अभी इस कानून से अछूते है.

भारत में शराब की लत से आधे से ज्यादा जनंसख्या परेशान है. शराब पीने वाला शख्स अपने साथ साथ अपने परिवार के लिए भी कई  परेशानियां खड़ी कर देता है शराब की वजह से सबसे ज्यादा महिलाएं परेशान है जिनके पति उन्हें शराब पीकर मारते है और उनसे बेवजह झगड़ा करते है.शराब से ना जाने अभी तक कितने घर बर्बाद हुए है. इसी वजह से भारत के दो राज्यों में शराब पर पूरी तरह से पांबदी लगा दी गई है. बिहार और गुजरात भारत के ऐसे दो राज्य है जहां पर शराब पर बैन लगा हुआ है. बिहार और गुजरात को शराब मुक्त कराने के लिए ये पहल की गई है ताकि लोग नशे की आदत को छोड़ सके.

बिहार और गुजरात दोनों में ही शराब को बैन किया गया है दोनों राज्य की सरकारे शराब को रोकने की पूरी कोशिश कर रही है.शराब को लेकर नियमों में काफी सख्ती बरती जा रही है.जिसकी वजह से बिहार और गुजरात में शराब कारोबारी का धंधा पूरी तरह से बंद पड़ा है.इसके बावजूद शराब प्रदेश में लाई जा रही है. शराब की लत इतनी बुरी है कि पांबदी होने के बाद भी लोग शराब पीना छोड़ नहीं पा रहे है वो किसी ना किसी तरीके से शराब को शहर में ला रहे  है और पी रहे है. शराब के कारोबारी गैरकानूनी तरीकों से शराब का धंधा कर रहे है.बिहार की जनता शराब के नशे में अपने भविष्य की बली चढ़ा रही है…देश में एनडीए सरकार है और बिहार और गुजरात में भी बीजेपी और एनडीए की मिली जुली सरकार है इसलिए केंद्र और प्रदेश सरकार के एक ही होने पर इन दोनों राज्यों में लागू शराबबंदी कानून काफी कड़े होते जा रहे है.

इसी कारण बिहार और गुजरात सरकार ने अपने प्रदेशों में शराब पर बैन लगा दिया है इन दोनों राज्यों में न कोई शराब पी सकता है और न ही कोई शराब ला सकता है शराब पर पूरी तरह से पांबदी लगा दीं गई है…जिसे लेकर कानून भी काफी सख्त कर दिए गए है…इन कानूनों को लोगों के द्वारा शराब को गैरकानूनी तरीके से लाने-बेचने और पीने के कारण कड़े किए गए।

बिहार में शराबबंदी कानून काफी सख्त है इसके मुताबिक अगर कोई शख्स शराब बंदी कानून का उल्लघंन करता है तो उसे 10 साल की सजा से लेकर उम्रकैद की सजा और 1 लाख से 10 लाख रुपये का जुर्माने का प्रावधान है.तो वहीं अगर कोई व्यक्ति नशे की हालात में शराब के नशे में धुत मिलता है तो उसे सात साल की सजा और 1 लाख से 10 लाख तक के जुर्माना भरना पड़ सकता है. शराब के नशे में लड़ाई झगड़ा औऱ किसी भी तरह की हिंसा और कोई अपराध करने पर 10 साल से लेकर उम्रकैद की सजा और जुर्माने का प्रावधान है.

शराबबंदी के वक्त अगर किसी भी घर या मकान और परिसर में शराब और नशे की किसी भी चीज को खरीदने और बेचने के कारण से रखा गया हो तो उस परिवार के 18 साल की उम्र के हर सदस्य को उसका जिम्मेदार समझा जाएंगा. उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी अगर वो खुद को निर्दोश साबित कर लेता है तो उसे छोड़ दिया जाएंगा.वरना उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएंगी.

शराब को बेचने और खरीदने के आरोप में पहली बार पकड़े जाने पर 5 साल की सजा और 1 लाख का जुर्माना हो सकता है. शराब पीते हुए पहली बार पकड़े जाने पर 50 हजार जुर्माने के साथ 3 महीने की सजा का प्रावधान है.

नकली शराब की ब्रिकी करने के आरोप में आजीवन कारावास की सजा का ऐलान है,अगर नकली शराब से किसी की मौत हो जाती है तो शराब के कारोबारी को सजा ए मौत या उम्रकैद और 10 लाख का जुर्माना होगा.

गुजरात में शराब पीना कानूनी जुर्म है जिसे लेकर सरकार हर साल नए कानून बना रही है.लेकिन गुजरात में अमीर और नामी लोगों को शराब पीने के लिए कानूनी तौर पर अनुमति लेनी होती है.फिर शराबबंदी विभाग से परमिट कार्ड मिलता है.

परमिट कार्ड के लिए पहले 500रुपये लगते थे, अब बढ़ाकर 2000 कर दिया गया है. अगर आप पहली बार शराब के नशे में पकड़े जाते है. तो तीन साल की सजा और 50 हजार का जुर्माना होता है.तो वहीं अगर आप शराब की बोतल अपने दोस्त के घर ले जाते हुए पकड़े गए तो आपको दस साल की सजा हो सकती है.साथ ही पांच लाख का जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

शराब बेचने –खरीदने किसी को पहुंचाने का दोषी पाएं जाने पर भी 10 साल की सजा और पांच लाख का जुर्माना होगा। तो वहीं शराब के अड्डे चलाने वालें लोगों पर 10 साल की जेल और 1 लाख रुपये की पेनल्टी लगेगी.शराब पीकर बवाल करने पर 1 से 3 साल की सजा का प्रावधान है.

अगर कोई  सरकारी कर्मचारी किसी आरोपी को पुलिस की कैद से भागने में मदद करता है तो उस पर सात साल की सजा और 1 लाख का जुर्माना लगेगा.

शराब पीना कानूनी तौर पर जुर्म है लेकिन इसके बावजूद लोग इस जहर को खरीद और पी रहे है. शराब पीना सिर्फ आपके ही नहीं बल्कि आपके पूरे परिवार के लिए हानिकारक है क्योंकि शराब चाहे एक शख्स पीता है लेकिन उससे माहौल पूरे घर का खराब हो जाता है.खासकर इसे पीने वाली की पत्नि पर खासा असर पड़ता है इसलिए बिहार और गुजरात सरकार ने शराब पर बैन लगाया है.ताकि कोई भी परिवार इस लत के कारण बर्बाद ना हो.

Loading...

Check Also

हवा में नमी की मात्रा 20% तक कम,एक बार फिर 45 डिग्री पार गया पारा

नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर में शनिवार को तापमान एक बार फिर सामान्य से 4-6 डिग्री तक ऊपर ...