Home / एजुकेशन / शब्द से खुशी, शब्द से गम, शब्द से पीड़ा, शब्द ही मरहम

शब्द से खुशी, शब्द से गम, शब्द से पीड़ा, शब्द ही मरहम

जब कोई आपके सामने गुस्से में बात करे,

तो उसे ख़ामोशी के साथ गौर से सुनिए,

क्यूंकि गुस्से में इन्सान अक्सर सच बोलता है।

हारना तब आवश्यक हो जाता है,

जब लड़ाई अपनों से हो,

और जीतना तब आवश्यक हो जाता है,

जब लड़ाई अपने आप से हो।

जिसकी किस्मत मे लिखा हो रोना दोस्तो,

वो मुस्कुरा भी दे तो आँसू निकल आते है।

जीतूँगा मैं, यह ख़ुद से वादा करो,

जितना सोचते हो, कोशिश उससे ज्यादा करो,

तकदीर भी रूठे पर हिम्मत न टूटे,

मजबूत इतना अपना इरादा करो।

 

जीवन न तो भविष्य में है,

और न ही अतीत में है,

जीवन तो केवल इस पल में है,

अर्थात इस पल का अनुभव ही जीवन है।

Loading...

Check Also

UP BOARD RESULT : इन वेबसाइट पर करें चेक,कभी भी आ सकते हैं परीक्षा परिणाम

लखनऊ : उत्‍तर प्रदेश माध्‍यमिक शिक्षा परिषद, यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की बोर्ड ...