Wednesday , July 24 2019
Home / देश / वायुसेना के साथियों की मिसाल: दुल्हन को स्टेज तक पहुंचाने के लिए बिछा दीं हथेलियां, हमारा सलाम

वायुसेना के साथियों की मिसाल: दुल्हन को स्टेज तक पहुंचाने के लिए बिछा दीं हथेलियां, हमारा सलाम

आरा:रोहतास जिले के काराकाट प्रखंड का बदिलाडीह गांव इन दिनों फिर सुर्खियों में है। इस बार भारतीय वायुसेना के शहीद गरुड़ कमांडो की तीसरी बहन की हाल ही में हुई शादी को लेकर यह गांव सुर्खियों में आया है। शादी समारोह में पहुंचे शहीद के 25 कमांडो साथियों ने दुल्हन को घर के आंगन से जयमाल स्टेज तक पहुंचाने के लिए अपनी हथेलियां बिछा दीं।
शहीद जवान की बहन शशिकला की शादी में शामिल होने के लिए ये कमांडो पांच दिन पहले ही बदिलाडीह पहुंच गए थे और शादी समारोह का बीड़ा उठा लिया था। अंशदान से एकत्रित पांच लाख रुपये का चेक भी शहिद के पिता तेजनारायण सिंह को सौंपे।
शहीद जवान की तीन वर्षीय पुत्री और चार बहनों की पढ़ाई-लिखाई का पूरा खर्च हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी न्यूज एजेंसी के चेयरमैन एवं राज्यसभा सदस्य आर.के. सिन्हा वहन कर रहे हैं।
13 नवम्बर 2017 को जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में आतंकवादियों से मुठभेड़ में वायुसेना के गरुण कमांडो ज्योति प्रकाश निराला शहीद हो गए थे। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी अजहर मसूद के भतीजे राशीद समेत तीन आतंकवादियों को मार गिराया था।
तब शहीद के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था। उनकी तीन साल की बेटी के भविष्य पर संकट के बादल मंडराने लगे थे। अविवाहित चार बहनों की पढ़ाई, करियर और शादी को लेकर भी शहीद के पिता पर दबाव बढ़ गया था।
ज्योति प्रकाश निराला के शहीद होने की खबरें टीवी चैनलों पर देखते ही  सांसद सिन्हा दिल्ली से शहीद के गांव पहुंचे और उनके परिवार के सदस्यों से मिलकर संवेदना जताई थी। उन्होंने शहीद की तीन वर्षीय पुत्री और चारों बहनों की पढ़ाई-लिखाई का जिम्मा उठाने के लिए प्रतिबद्धता जतायी।
गत तीन जून को संपन्न हुए शशिकला की शादी समारोह की चर्चाएं अब भी जारी हैं। घर के आंगन से लेकर स्टेज तक दुल्हन शशिकला के पैरों के नीचे उसके इकलौते भाई के गरुड़ कमांडो साथियों ने अपनी हथेलियां बिछा दीं। यह दृश्य देख शादी समारोह में शामिल लोगों की आंखें भर आईं।
शशिकला, सांसद सिन्हा के सहयोग से आरा के कायमनगर से बीएड कर रही हैं, तो दूल्हा रेलवे में लोको पायलट है।
सांसद सिन्हा ने शहीद की आदमकद प्रतिमा उनके गांव बदिलाडीह में ही लगवाने का कार्य प्रारम्भ किया था तो शहीद की चारों बहनों की पढ़ाई पूरी कराकर उन्हें नौकरी के लायक बनाने का आश्वासन भी दिया था।
शहीद की एक बहन बिंदु बिहार पुलिस में नौकरी कर रही है। वहीं एक बहन सुनीता हाल ही में दारोगा बन चुकी है। बदिलाडीह गांव के लोगों के लिए तब 69वां गणतंत्र दिवस और भी यादगार हो गया जब इस गांव के शहीद गरुण कमांडो ज्योति प्रकाश निराला को 26 जनवरी 2018 को गणतंत्र दिवस के समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अशोक चक्र से सम्मानित किया। यह सम्मान शहीद की पत्नी सुषमा ने ग्रहण किया था।
Loading...

Check Also

पति को दे दिया जहर और हो गई फरार प्रेमी के लिए दो बच्चो की माँ ने

अपराध के मामलों ने आजकल सभी जगह सनसनी फैला दी है. ऐसे में जो मामला ...