loading...
Loading...

स्वपन दोष जैसा कि इसके नाम से प्रतीत होता है कि यह स्वप्न से संबधित रोग है.तो हाँ यह सच है कि यह स्वप्न से संबधित रोग है.यह रोग अधिकतर युवाओं में पाया जाता है.अंग्रेंजी में यह  रोग स्पर्माटोरिया के नाम से जाना जाता है.सामान्य अवस्था में  स्त्री व पुरुष के सम्मिलन की चरमावस्था पर पुरुष का वीर्य स्खलित होता है. या यह कहा जा सकता है कि वीर्य़ का स्खलन संभोग  की चरम सीमा है जिसमें पुरुष का वीर्य स्खलित होता है. इसमें पुरुष व स्त्री शारीरिक व मानसिक तल पर एक साथ सम्मिलित होते हैं.और दोनो का एक ही लक्ष्य होता है सम्भोग की चरम अवस्था पर पहुँच कर  परमानन्द की अनुभूति  प्राप्त करना.

स्वप्न दोष या वेट ड्रीम्स को हम लगभग हमेशा पुरुषों के साथ जोड़कर देखते हैं, लेकिन महिलाओं के साथ भी यह समस्या आम है. महिलाओं की भी नींद खुल जाती है, और उन्हें गीलापन महसूस होता है और ये केवल जवानी तक सीमित नहीं हैं. फिर भी यह बात को पचाना मुश्किल लगता है? जर्नल ऑफ सेक्स रिसर्च में प्रकाशित एक स्टडी में पाया गया कि इस स्टडी में शामिल 37 प्रतिशत महिलाओं ने स्वीकार किया कि उन्होंने वेट ड्रीम्स अनुभव किया है.

महिलाएं नींद में सेक्सुअली उत्तेजित हो जाती हैं और आखिरकार ऑर्गैज़्म तक पहुंचने के बाद अचानक से नींद खुल जाती है. जब आपकी नींद की शुरुआत या आरईएम स्लीप साइकल में आपके वैजाइना में रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और शरीर को आराम की गहन अनुभूति होने लगती है. इस स्थिति में आपको सेक्सुअल डिज़ायर बहुत अधिक महसूस होती है. लेकिन दुर्भाग्य से, नींद में महसूस होनेवाला ऑर्गैज़्म ज़्यादा स्ट्रॉन्ग नहीं होता; और आप केवल इसे अनुभव करने की उम्मीदभर कर सकती हैं.

हालांकि, पुरुषों की तुलना में महिलाओं को स्वप्न दोष कम ही महसूस होते हैं. उन्हें सालभर में कभी-कभार ही इसे महसूस होता है. हालांकि, कुछ महिलाओं को एक ही रात में कई बार इसका अनुभव होता है.