Monday , June 17 2019
Home / विदेश / रेस्त्रां पहुंचकर लोगों को पिज्जा परोसा,सांसद ने कम वेतन वाले कर्मचारियों की आवाज उठाई

रेस्त्रां पहुंचकर लोगों को पिज्जा परोसा,सांसद ने कम वेतन वाले कर्मचारियों की आवाज उठाई

न्यूयॉर्क. अमेरिकी सांसद एलेक्जेंड्रिया ओकासियो-कोर्टेज रेस्त्रां में कम वेतन पाने वाले कर्मचारियों के समर्थन में खड़ी हैं। इसके लिए वे शुक्रवार को रेस्त्रां गईं और लोगों को पिज्जा सर्व किया। न्यूयॉर्क की डेमोक्रेट और मीडिया सेनसेशन एलेक्जेंड्रिया पिछले साल कांग्रेस से सांसद चुनी गईं। इसके पहले वह बारटेंडर थीं। उनका मानना है कि ‘रेज द वेज एक्ट’ (न्यूनतम वेतन वृद्धि कानून) पर बहस होनी चाहिए। देश में कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन घंटे के हिसाब से करीब 1000 रुपये होना चाहिए।

ओकासियो-कॉर्टेज ने क्विंसबोरो रेस्त्रां में ग्राहकों, कर्मचारियों और रिपोर्ट्स से कहा कि यदि किसी भी नौकरी में हर घंटे 150 रुपए मिलते हैं तो यह कोई नौकरी नहीं हुई। यह गुलामी की तरह है। अमेरिकी कानून के मुताबिक, नाखून सैलून, रेस्त्रां और कार गराज के कर्मचारियों को करीब 500 रुपए प्रति घंटा न्यूनतम मजदूरी का भूगतान करने से छूट है। इसके बदले उन्हें 350 रुपए प्रति घंटा के हिसाब से टीप क्रेडिट देंगे। इसमें भी वे कम से कम 150 रुपए की राशि देंगे।

रेस्त्रां एसोसिएशन ने कानून का विरोध किया

29 वर्षीय ओकासियो-कॉर्टेज पिछले साल मध्यावधी चुनाव में जो क्राउले को हराया था। राष्ट्रीय रेस्त्रां एसोसिएशन ने कर्मचारियों के न्यूनतम वेतन वृद्धि का विरोध किया है। उनका कहना है कि इससे रेस्त्रां को नुकसान होगा। वहीं, न्यूनतम वेतन वृद्धि कानून के समर्थकों का कहना है कि सातों राज्य में ये रेस्त्रां अच्छा काम कर रहे हैं। लेकिन, कर्मचारियों को कम वेतन का भूगतान किया जा रहा है।

कॉर्टेज 16 की उम्र से ही रेस्त्रां में काम करती थीं

ओकासियो-कॉर्टेज ने कहा कि उन्होंने 16 साल की उम्र से ही रेस्त्रां में काम करना शुरू कर दिया था। इस दौरान उन्होंने यौन शोषण का भी सामना किया। लोग भद्दे कमेंट्स करते थे। यहां ज्यादातर बारटेंडर महिलाएं ही होती हैं। उनके साथ आए दिन यौन शोषण होता है। एक अलग कानून ‘बी हर्ड एक्ट’ से कार्यस्थल पर उत्पीड़न की घटनाएं कम होंगी। दोनों विधेयक डेमोक्रेटिक-नियंत्रित हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव पारित कर सकते हैं। लेकिन रिपब्लिकन-नियंत्रित सीनेट में इसे पास होने में काफी समस्या होगी।

Loading...

Check Also

श्रीलंका- बम धमाकों के बाद इस्तीफा देने वाले 9 मुस्लिम मंत्री सरकार में पुन: हो सकते हैं शामिल

कोलंबो: श्रीलंका में ईस्टर पर हुए बम धमाकों के बाद अल्पसंख्यक विरोधी भावनाओं के भड़कने के ...