Thursday , June 27 2019
Home / Home / रंगदारी वसूलने और फायरिंग करने वाले गुंडों का निकला जुलूस

रंगदारी वसूलने और फायरिंग करने वाले गुंडों का निकला जुलूस

छतरपुर : बढ़ते अपराधें के कारण लगातार बदनाम हो रही छतरपुर पुलिस ने अपनी छवि को ठीक करने के लिए आरोपियें पर सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। दो दिन पहले एक व्यापारी को रंगदारी के लिए धमकाने और फायरिंग करने वाले दो आरोपियें को सिटी कोतवाली पुलिस ने न सिर्फ गिरफ्तार किया बल्कि उसी इलाके से इन गुण्डें का जुलूस निकाला जहां इन्होंने दहशत फैलाई थी। टीआई अरविंद दांगी ने कहा कि आपराधिक घटनाएं किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएंगी जो भी गुण्डे आतंक फैलाने की कोशिश करेंगे उन्हें इसी तरह ठीक किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि 30 मई को सरानी दरवाजा बाईपास क्षेत्र में रहने वाले व्यापारी सुरेश अग्रवाल के साथ रंगदारी मांगने का मामला सामने आया था। सुरेश अग्रवाल ने सिटी कोतवाली पुलिस को लिखित शिकायत की थी कि बाईपास इलाके में रहने वाले शालू तनय गनी खान एवं दीपू खटीक ने उनसे रूपए मांगे हैं। रूपए मांगने की यह शिकायत जब सुरेश अग्रवाल ने कोतवाली पुलिस से की तो आरोपियें ने शांत होने के बजाय व्यापारी को और अधिक डराना शुरू कर दिया।

31 मई को दोपहर डेढ़ बजे शालू ने सुरेश अग्रवाल के घर के बाहर जाकर गाली-गलौच कर फायरिंग की और रात करीब 9 बजे दीपू खटीक ने भी व्यापारी के यहां पहुंचकर पैसे मांगते हुए फायरिंग की। आरोपी इस वारदात को अंजाम देकर मौके से फरार हो गए। दिनदहाड़े छतरपुर शहर में रंगदारी मांगने का यह मामला जब सामने आया तो व्यापारी भी एकजुट होकर कोतवाली पहुंचे। सोशल मीडिया पर छतरपुर पुलिस के विरूद्ध आलोचनाएं शुरू हो गईं। पुलिस ने आरोपियें पर रंगदारी मांगने एवं फायरिंग करने की धाराआंð में मुकदमा कायम किया तथा शनिवार की सुबह सिविल डेस में आरोपियें को सिंघाड़ी नदी के पास एक स्थान से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी यहां गांजे का नशा कर रहे थे। पुलिस ने आरोपियें को पकड़कर उन्हें इसी इलाके में पैदल घुमाया और आरोपियें का जुलूस लेकर न्यायालय पहुंचे जहां से आरोपियों को जेल भेज दिया गया।

Loading...

Check Also

मध्यप्रदेश में सत्ता जाते ही भाजपा गुटों से गिरोह में बदली : कांग्रेस

भोपाल : मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा एवं उपाध्यक्ष अभय दुबे ...