Home / Home / मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट देश में पड़ रही भीषण गर्मी को देखते हुए

मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट देश में पड़ रही भीषण गर्मी को देखते हुए

नई दिल्ली : देश का दो तिहाई हिस्सा लू की चपेट में है। मौसम विभाग ने लू को लेकर रेड अलर्ट जारी किया है। लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी गई है। शनिवार इस सीजन का सबसे गर्म दिन रहा। मौसम विभाग के वैज्ञानिक ने बताया कि राजस्थान के चूरू में शनिवार को पारा 50.8 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। यह 63 साल में दूसरा सर्वाधिक तापमान है। 1956 में राजस्थान के अलवर में पारा 50.6 डिग्री रहा था। 2016 में राजस्थान के ही फलोदी में अब तक का सर्वाधिक 51 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था।

 

ऐसा रहा पूरा मौसम 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार राजस्थान के जैसलमेर के रामगढ़ में भी 50 डिग्री तापमान दर्ज किया गया। दुनिया की 15 सबसे गर्म जगहों में 8 भारत की ही रहीं। राजस्थान का गंगानगर 49.6 डिग्री के साथ देश की दूसरी सबसे गर्म जगह रही। यहां लगातार दूसरे दिन पारा 49.6 डिग्री रहा। दिल्ली में तापमान 46.6 डिग्री रहा। यह सामान्य से 6 डिग्री ज्यादा है।

 

आगे ऐसा रहेगा मौसम 

इसी के साथ भोपाल, लखनऊ, जयपुर, रांची, हैदराबाद और चंडीगढ़ समेत 145 शहरों में पारा 40 डिग्री से अधिक दर्ज किया गया। औसत तापमान 5 से 7 डिग्री ज्यादा रहा। जून के पहले हफ्ते में गर्मी का दौर जारी रह सकता है। इसकी वजह मानसून में देरी और प्री माॅनसून सीजन में कम बारिश बताई जा रही है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि इस साल जनवरी से ही पारा सामान्य से 2 से 5 डिग्री ज्यादा रहा। यह ट्रेंड अभी तक बना हुआ है।

Loading...

Check Also

रोड दुघर्टना में मरने वालों की उम्र १८-२५ साल वालों की- गडकरी

केंद्रीय मंत्री माइक्रो स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज व रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज नितिन गडकरी ने टीसीई सेफ सफर काअनावरण किया।कार्यक्रम में टीसीआई के डॉक्टर डी पी अग्रवाल, श्री विनीत अग्रवाल और श्री चन्दर अग्रवाल भी उपस्थित थे। गडकरी ने विशेष तौर से बने हुए पारिस्थितिकी अनुकूलित ट्रक का अनावरण कर टी सी आई को इसके लिए बधाई देते ए कहा “मैं सबसे पहले टीसीआई को इस प्रयास के लिए बधाई देता हूँ जो लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से टी सी आई सेफ सफर को ले कर आये हैं।हमारे देश में हर साल ५ लाख एक्सीडेंट होते हैं जिसमें १.५ मृत्यु होती हैं और अधिकतर मृतकों की आयु १८ से २५ होती है. इसके कारण कई परिवार बर्बाद तो होते ही हैं और जी डी पी भी ३% गिरती है। अगर सब इसमें सावधानी बरतें तो यह खबरें आनी बंद हो जाएँगी।