Wednesday , March 27 2019
Home / देश / महिलाओ की मदद के लिए बना ‘RPF सखी’ वॉट्सऐप ग्रुप, अब ग्रुप छोड़ रही महिलाए

महिलाओ की मदद के लिए बना ‘RPF सखी’ वॉट्सऐप ग्रुप, अब ग्रुप छोड़ रही महिलाए

मुंबई:तीन साल पहले फरवरी 2016 में पश्चिम रेलवे के रेलवे सुरक्षा बल (RPF) ने एक महत्वाकांक्षी मिशन शुरू किया था। इस मिशन के तहत आरपीएफ सखी नाम का वॉट्सऐप ग्रुप बनाया गया था जिसका उद्देश्य था ज्यादा से ज्यादा महिला यात्रियों को इससे जोड़कर उनकी समस्याओं का समाधान किया जाए। तीन वर्षों के अंदर वॉट्सऐप के तीनों ग्रुपों ने अपनी प्रासंगिकता खो दी है, क्योंकि इसमें आने वाले ज्यादातर संदेश स्पैम (बेकार के संदेश) होते हैं।

पश्चिमी रेलवे के इन सखी-1 से लेकर सखी-8 वॉट्सऐप ग्रुपों में लगभग 1,100 महिला यात्री जुड़ी हैं। इन ग्रुपों को तब इसलिए बनाया गया था ताकि किसी इमर्जेंसी में महिला यात्रियों और महिला अधिकारियों के बीच सीधा संवाद हो सके लेकिन यह ग्रुप अब महिला यात्रियों और अधिकारियों दोनों के लिए ही एक बोझ बन गया है। कई महिला यात्रियों ने कहा कि वे फालतू के संदेशों से तंग आ चुकी थीं, इसलिए उन्होंने ग्रुप छोड़ दिया। 2017-18 में सखी ग्रुपों में शामिल होने वाली महिला यात्रियों की संख्या 1,500 हो गई थी लेकिन अब यह संख्या 1,100 से नीचे आ गई है।

पश्चिम रेलवे के एक अधिकारी ने कहा, इन वॉट्सऐप ग्रुपों को शुरू किया गया था ताकि महिला यात्री प्लैटफार्मों या ट्रेनों पर दिखने वाले ऐसे संदिग्ध व्यक्तियों की तस्वीरें पोस्ट कर सकें जो महिला यात्रियों के साथ छेड़खानी करते हैं या उन्हें परेशान करते हैं। तस्वीर आने के बाद महिला आरपीएफ इंस्पेक्टर संबंधित आरपीएफ चौकी पर बात करके मामले की जांच करा सके।

Loading...

Check Also

छात्रा ने गुजरात यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पर लगाया छेड़खानी का आरोप, प्रवेश पर रोक लगी

अहमदाबाद:गुजरात यूनिवर्सिटी में केमिस्ट्री के प्रोफेसर पर एक छात्रा ने छेड़खानी का आरोप लगाया है। ...