Friday , March 22 2019
Home / धर्म / मंदिर हो घर की इस दिशा में , तो घर में कभी नहीं आएगी शांति

मंदिर हो घर की इस दिशा में , तो घर में कभी नहीं आएगी शांति

हाल ही में वास्तुशास्त्र के प्रति लोगों का आकर्षण बहुत बढा है। आजकल लगभग सभी अखबारों व पत्रिकाओ में वास्तुशास्त्र पर लेख छपते रहते हैं। वास्तुशास्त्र पर कई किताबें भी बाजार में उपलब्ध हैं। लगभग सभी में यह छपा होता है कि पूजा का स्थान भवन के ईशान कोण में होना चाहिए।

किस दिशा में होना चाहिए मंदिर:

# ईशान कोण: ईशान कोण में पूजा का स्थान होने से परिवार के सदस्य सात्विक विचारों के होते हैं। उनका
स्वास्थ्य अच्छा रहता है और उनकी आयु बढ़ती है।

पूर्व दिशा-इस दिशा में पूजा का स्थान होने पर घर का मुखिया सात्विक विचारों वाला होता है और समाज में इज्जत और प्रसिद्धि पाता है।

# दक्षिण दिशा: इस दिशा में पूजाघर होने पर उसमें सोने वाला पुरूष जिद्दी, गुस्से वाला और भावना प्रधान होता है। र्नैत्य कोण: जिन घरों में र्नैत्य कोण में पूजा का स्थान होता है उनमें रहने वालों को पेट संबंधी कष्ट रहते हैं।

# पश्चिम दिशा: इस दिशा में पूजाघर होने पर घर का मुखिया धर्म के उपदेश तो देता है परंतु धर्म की अवमानना भी करता है। वह बहुत लालची होता है और गैस से पीडित रहता है।

# उतर दिशा: इस दिशा में पूजाघर हो तो घर के मुखिया के सबसे छोटा भाई, बहन, बेटा या बेटी कई विषयों की विद्वान होती है। ब्रह्म स्थल: घर के मध्य में पूजा का स्थान होना शुभ होता है।

Loading...

Check Also

21, 22 और 23 मार्च की भविष्यवाणी, जानिए क्या लिखा है आपके भाग्य में

सिंह ,कन्या, तुला, वृश्चिक जल्दबाजी में कोई काम न करें। सोच विचार कर निर्णय लें। ...