Home / देश / फिल्म ‘इन्क्रेडिबल इंडिया’ की कमाई का चौथाई हिस्सा भारतीय सेना को मिलेगा

फिल्म ‘इन्क्रेडिबल इंडिया’ की कमाई का चौथाई हिस्सा भारतीय सेना को मिलेगा

देशभक्ति से ओतप्रोत फिल्म ‘इन्क्रेडिबल इंडिया’ की कमाई का 25 प्रतिशत हिस्सा भारतीय सेना और किसानों को दिया जायेगा। ‘इन्क्रेडिबल इंडिया’ 21 फरवरी 2020 को विश्वभर में 13 भाषाओं में एक साथ सिनेमाघरों में प्रदर्शित की जाएगी। उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान की सरहद पर तनाव, गोलीबारी और आतंकी घुसपैठ जैसे मुद्दों पर बनी यह फिल्म पूर्णरूपेण देशभक्ति पर आधारित है। फिल्म का पोस्टर भी इस मौके पर रिलीज किया गया।
आरआर फिल्मस की निर्माता रेणुका राज सिंह राजपूत और फिल्म निर्देशक राज सिंह राजपूत ने यह घोषणा संयुक्त रूप से एक प्रेस कान्फ्रेंस में की। फिल्म निर्देशक राज सिंह राजपूत ने बताया कि इस फिल्म में राजपाल यादव, महाभारत के गजेंद्र चौहान, मुश्ताक खान, अली खान, दिलीप केदार, विशाल देसाई, प्रशांत पुंडीर, तनुश्री मुखर्जी, विजय सिंह पटेल, कपिल सोलंकी, शिवपूजन तिवारी, रामचरन पटेल, विनोद पटेल, नागेन्द्र कुमार पटेल, गुलाब सिंह, राजकुमारी साकेत, अजीत, जाकिर, अवधेश वर्मा, अनिल अनुज, नीलम अरोड़ा, योगेश यादव, सचिन, नीलू शर्मा, धर्मेन्द्र बच्चन, शोभा सिंह राजपूत, सोनिया कामरा, ज्योति प्रजापति, पूर्वी शिर्के, रविकांत, राजू जी, मिथलेश कुमार, नैतिक, मनीष कुमार, साक्षी तिवारी आदि ने कुशल अभिनय किया है। फिल्म के लेखक मोहम्मद अतीक हैं, जबकि गीतकार खालिद भाटी और कार्यकारी निर्माता अवधेश वर्मा हैं।
फिल्म निर्देशक राज सिंह राजपूत ने बताया कि ‘बदला हिन्दुस्तानी का’ फिल्म की आय का 25 फीसदी हिस्सा देश के नौजवान व किसानों को दिया गया था। इसी तरह ‘इन्क्रेडिबल इंडिया’ फिल्म की आय का भी 25 फीसदी हिस्सा देश के नौजवान व किसानों को दिया जायेगा। इसी टीम की पहली फिल्म ‘बदला हिन्दुस्तानी का’ पूरे भारत में प्रदर्शित हुई थी और दर्शकों को आकर्षित करने में कामयाब रही थी।
फिल्म निर्देशक राज सिंह राजपूत फिल्म इंडस्ट्रीज में अकेले ऐसे निर्देशक हैं, जिनकी शिक्षा दीक्षा गुरुकुल में हुई है और उन्होंने 18 सालों तक वेद और उपनिषदों का गहन अध्ययन किया है। वे फिल्मों के माध्यम से भारतीय सभ्यता, संस्कृति और राष्ट्रभक्ति की गंगा पुन: बहाकर फिल्म इंडस्टीज में टर्निंग प्वाइंट लाने के लिए उत्सुक हैं, जिसमें वह कामयाब होने की ओर अग्रसर हैं। वे चाहते हैं कि भारत एक बार पुन: विश्वगुरु बने और फिल्मों के माध्यम से भी स्वस्थ मनोरंजन के साथ-साथ देशभक्ति और संस्कारों का प्रचार प्रसार हो।
Loading...

Check Also

पापा की उंगली पकड़कर किताबें लेने गई थी बेटी, लेकिन हाथों में उसी बच्ची की लाश लेकर लौटा पिता…

देहरादून. उत्तराखंड में एक दिल दहला देने वाला हादसा सामने आया है। जिसमें  एक 12 साल ...