Home / देश / फिर हिंसा की चपेट में भाटपाड़ा, बमबारी में एक की मौत, सड़क जाम.

फिर हिंसा की चपेट में भाटपाड़ा, बमबारी में एक की मौत, सड़क जाम.

कोलकाता: एक बार फिर उत्तर 24 परगना का भाटपाड़ा इलाका हिंसा की चपेट में आ गया है। सोमवार देर रात यहां हुई बमबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक की पहचान 60 वर्षीय मोहम्मद हलीम के तौर पर हुई है। मंगलवार सुबह पुलिस की ओर से जारी बयान के मुताबिक देर रात आर्य समाज मोड़ पर किसी ने बमबारी की थी जिसकी चपेट में आने से मोहम्मद हलीम की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक और महिला इसमें घायल हुई है। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
इधर देर रात हुई इस घटना के बाद पूरे क्षेत्र में एक बार फिर तनाव का माहौल बन गया है। लोकसभा चुनाव का परिणाम गत 23 मई को आने के बाद इस पूरे क्षेत्र में राजनीतिक हिंसा सांप्रदायिक हिंसा में तब्दील हो गई थी। हालात को समझते हुए इलाके में मंगलवार सुबह से बड़ी संख्या में पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती कर दी गई है।
इधर मारे गए मोहम्मद हलीम के परिजनों के समर्थन में सैकड़ों अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने मंगलवार सुबह के समय सड़क पर शव को रखकर विरोध प्रदर्शन किया है। सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंचकर इन्हें समझाने की कोशिश कर रही है। आरोपितों को जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया गया है जिसके बाद लोग थोड़े बहुत शांत हुए हैं। इस घटना के पीछे की वजह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सकी है। हालांकि अभी तक किसी भी राजनीतिक पार्टी ने मोहम्मद हलीम को अपना कार्यकर्ता नहीं बताया है। इसलिए माना जा रहा है कि यह एक राजनीतिक हत्या नहीं है।
उल्लेखनीय है कि इसी उत्तर 24 परगना के संदेशखाली में गत शनिवार को भाजपा और तृणमूल के बीच हुई गोलीबारी में 8 लोगों की मौत हुई है जिसमें भाजपा के पांच और तृणमूल के तीन लोगों के मरने का दावा किया जा रहा है।
Loading...

Check Also

रोड दुघर्टना में मरने वालों की उम्र १८-२५ साल वालों की- गडकरी

केंद्रीय मंत्री माइक्रो स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज व रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज नितिन गडकरी ने टीसीई सेफ सफर काअनावरण किया।कार्यक्रम में टीसीआई के डॉक्टर डी पी अग्रवाल, श्री विनीत अग्रवाल और श्री चन्दर अग्रवाल भी उपस्थित थे। गडकरी ने विशेष तौर से बने हुए पारिस्थितिकी अनुकूलित ट्रक का अनावरण कर टी सी आई को इसके लिए बधाई देते ए कहा “मैं सबसे पहले टीसीआई को इस प्रयास के लिए बधाई देता हूँ जो लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से टी सी आई सेफ सफर को ले कर आये हैं।हमारे देश में हर साल ५ लाख एक्सीडेंट होते हैं जिसमें १.५ मृत्यु होती हैं और अधिकतर मृतकों की आयु १८ से २५ होती है. इसके कारण कई परिवार बर्बाद तो होते ही हैं और जी डी पी भी ३% गिरती है। अगर सब इसमें सावधानी बरतें तो यह खबरें आनी बंद हो जाएँगी।