Home / Home / प्रशासन ने कहा- कश्मीर घाटी में कुछ प्रतिबंध लागू रहेंगे, एलओसी पर सेना-बीएसएफ अलर्ट

प्रशासन ने कहा- कश्मीर घाटी में कुछ प्रतिबंध लागू रहेंगे, एलओसी पर सेना-बीएसएफ अलर्ट

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने 73वें स्वतंत्रता दिवस से पहले राज्य में सुरक्षा व्यवस्था को अधिक सख्त कर दिया है। प्रधान सचिव रोहित कांसल ने बताया कि गुरुवार को कश्मीर घाटी में कुछ प्रतिबंध लागू रहेंगे। राज्य में किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना की खबर नहीं है। पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल को नजरबंद किए जाने के फैसले पर कांसल ने कहा कि किसी भी नेता को गिरफ्तारी या हिरासत में रखने का निर्णय स्थानीय कानून व्यवस्था के मद्देनजर लिया जाता है। यह गिरफ्तारी एहतियात के तौर पर की जाती है। कुछ लोगों को राज्य से बाहर भी भेजा गया है।

उन्होंने बताया कि स्वतंत्रता दिवस समारोह में सरकारी झंडारोहण का कार्यक्रम एस के स्टेडियम में किया जाएगा जिसमें राज्यपाल सत्यपाल मलिक तिरंगा फहराएंगे। अधिकारियों के मुताबिक, नियंत्रण रेखा पर स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर सेना और बीएसएफ के जवानों को अलर्ट पर रखा गया है। जम्मू क्षेत्र में पुलिस को सुरक्षा व्यवस्था में कोई चूक न बरतने को कहा गया है।

सुरक्षा जांच में लोगों से सहयोग करने की अपील
अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी किए जाने और जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटे जाने के बाद राज्य में पहला स्वतंत्रता दिवस का आयोजन होगा। राज्य के नागरिकों से संदिग्ध वस्तुओं को देखते ही पुलिस को सूचित करने को कहा गया है। लोगों को किसी भी हथियार, हैंड बैग, ट्रांजिस्टर सहित किसी भी ज्वलनशील पदार्थ लेकर नहीं निकलने की चेतावनी जारी की गई है। लोगों से सुरक्षा जांच में मदद करने की अपील की गई है। रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा को बढ़ा दी गई है।

कार्यकर्ताओं का आरोप- लोग घरों में दुबक कर रहने को विवश
इस बीच, कई कार्यकर्ताओं ने जम्मू कश्मीर की जमीनी हकीकत जानने के लिए क्षेत्र का दौरा किया। उन्होंने आरोप लगाया कि इलाके में लोग अपने घरों में दुबक को रहने को विवश हैं। इंटरनेट, फोन कॉल्स आदि सेवाएं काट दी गई है। सड़कों पर सन्नाटे का माहौल है। आवश्यक सामान लेने के लिए उन्हें समूह में जाने की इजाजत नहीं दी जा रही।

सेना ने आतंकी घुसपैठ नाकाम की
इस बीच, भारतीय सेना के सूत्रों ने एक न्यूज एजेंसी को बताया कि बीती रात पाकिस्तानी सेना आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में थी, लेकिन उनके इस प्रयास को विफल कर दिया गया। उन्होंने बताया कि सभी आतंकवादी जम्मू-कश्मीर के उड़ी सेक्टर से भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास कर रहे थे। सेना को इसकी भनक लगते ही फायरिंग शुरू कर दी गई। इसके बाद वे पीछे भागने को मजबूर हो गए। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से सीमा पर सेना की तैनाती बढ़ा दी गई है।

Loading...

Check Also

लापता शुभम का नहीं मिला कोई सुराग, SIT ने दोस्त पुनीत के साथ की जंगलों की छानबीन

ठियोग : बीते 11 दिनों से गायब जुब्बल के शुभम का अभी तक कोई पता ...

सरकार ने लोकसभा में कहा, कांग्रेस कर रही पूर्वोत्तर में हिंसा फैलाने की कोशिश

नई दिल्ली : सरकार ने गुरुवार को कांग्रेस पर पूर्वोत्तर में हिंसा भड़काने का आरोप लगाया ...

कैब से भारतीय मुसलमानों के हित प्रभावित नहीं होंगे : मोदी

  रांची :  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 (कैब) से देश के मुसलमानों ...

कैग की रिपोर्ट में खुलासाः मोदी सरकार की उज्ज्वला योजना में हो रहा फ्रॉड

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है। ...