Home / Home / पहली बार नारनौल में पारा 48.30 पहुंचा,प्रदेश के इतिहास का दूसरा सबसे गर्म दिन

पहली बार नारनौल में पारा 48.30 पहुंचा,प्रदेश के इतिहास का दूसरा सबसे गर्म दिन

पानीपत : प्रदेश में सोमवार को गर्मी प्रचंड हो गई। यह अब तक का दूसरा सबसे गर्म दिन रहा। भिवानी के लोहारू में अधिकतम तापमान 48.8 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। पहले यहां इसी साल 2 जून को 49 डिग्री तापमान रहा था, जो प्रदेश में अब तक का रिकॉर्ड है। 19 जून 1981 को 48.4 डिग्री तापमान रहा था।

वहीं, नारनौल में तापमान 48.3 डिग्री दर्ज किया गया। यहां यह अब तक का सर्वाधिक तापमान है। इससे पहले 2007 में तापमान 48.1 दर्ज किया गया था। सभी जिलों का तापमान 44 डिग्री के पार रहा। मौसम विभाग के मुताबिक, पश्चिम विक्षोभ के असर से 11 की रात से  13 जून तक प्रदेश के कुछ इलाकों में आंधी के साथ हल्की बारिश हो सकती है। उधर, दिल्ली में अब तक का सबसे ज्यादा 48 डिग्री तापमान रहा। मौसम विभाग के पास 1901 से उपलब्ध माैसम डेटा में जून माह में दिल्ली में पहली बार पारा इतना ऊपर पहुंचा है।

weather

करनाल में जून में 10 साल में तीसरा सबसे गर्म दिन :
इससे पहले 5 जून 2017 को 45.4 और 1 जून 2012 को 45.2 डिग्री तापमान रहा था। करनाल में 17 जून 1958 को 45.6 डिग्री पारा रहा था, जो अब तक का रिकाॅर्ड है।

हरियाणा में रातें मनाली के दिन से भी गर्म :

हरियाणा में आजकल रातें भी मनाली से गर्म हैं। मनाली में दिन का पारा 28.6 डिग्री रहा। वहीं हरियाणा के भिवानी में रात का पारा 28.6 डिग्री पहुंच गया।

पिछले 10 दिन में 92 फीसदी कम बारिश :

1 जून से 10 जून तक प्रदेश में बारिश की कमी 92 फीसदी है। इस अवधि में सामान्य बारिश औसतन 8.1 मिलीमीटर होती है, लेकिन इस बार यह महज 0.7 मिलीमीटर हुई है।
भीषण गर्मी का कारण: शुष्क मौसम और राजस्थान से आ रही गर्म हवा :

मौसम वेबसाइट स्काईमेट के वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि प्री-माॅनसून की बारिश नहीं हाेने से मौसम शुष्क है। पाकिस्तान और राजस्थान की ओर  से आ  रही गर्म हवाओ  के कारण उत्तर भारत में गर्मी ज्यादा हाे रही है।

हरियाणा में 21 जून के बाद प्री-माॅनसून की बारिश संभव, मॉनसून 30 के बाद :

मौसम विभाग चंडीगढ़ के निदेशक डॉ. सुरेंद्र पाल सिंह का कहना है कि माॅनसून सही गति से आगे बढ़ रहा है। यही चाल रही तो हरियाणा में 21 जून के बाद प्री-माॅनसून की बारिश हो सकती है। वहीं, मॉनसून भी 30 जून के बाद जुलाई के पहले सप्ताह में कभी भी हरियाणा में दस्तक दे सकता है।

Loading...

Check Also

रोड दुघर्टना में मरने वालों की उम्र १८-२५ साल वालों की- गडकरी

केंद्रीय मंत्री माइक्रो स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज व रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज नितिन गडकरी ने टीसीई सेफ सफर काअनावरण किया।कार्यक्रम में टीसीआई के डॉक्टर डी पी अग्रवाल, श्री विनीत अग्रवाल और श्री चन्दर अग्रवाल भी उपस्थित थे। गडकरी ने विशेष तौर से बने हुए पारिस्थितिकी अनुकूलित ट्रक का अनावरण कर टी सी आई को इसके लिए बधाई देते ए कहा “मैं सबसे पहले टीसीआई को इस प्रयास के लिए बधाई देता हूँ जो लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से टी सी आई सेफ सफर को ले कर आये हैं।हमारे देश में हर साल ५ लाख एक्सीडेंट होते हैं जिसमें १.५ मृत्यु होती हैं और अधिकतर मृतकों की आयु १८ से २५ होती है. इसके कारण कई परिवार बर्बाद तो होते ही हैं और जी डी पी भी ३% गिरती है। अगर सब इसमें सावधानी बरतें तो यह खबरें आनी बंद हो जाएँगी।