Saturday , July 20 2019
Home / देश / देवर ने तेल डाला और पति ने लगाई आग,9 माह पहले हुई थी शादी, पिता बोला- बेटी ने बताया, सास-ससुर ने पकड़ा

देवर ने तेल डाला और पति ने लगाई आग,9 माह पहले हुई थी शादी, पिता बोला- बेटी ने बताया, सास-ससुर ने पकड़ा

यमुनानगर। आग में झुलसी तेली माजरा निवासी सोनम ने पीजीआई में दम तोड़ दिया। सोनम के पिता ने आरोप लगाया है कि उसकी बेटी को दहेज की मांग पूरी न होने पर उसके ससुरालियों न जलाकर मारा है। जबकि सोनम के ससुरालियों ने पहले पुलिस को बताया था कि मधु मक्खियों के छत्ते को जलाते समय सोनम आग में झुलस गई थी। जगाधरी पुलिस ने सोनम के पिता की शिकायत पर दहेज हत्या का केस दर्ज कर लिया है। आरोपियों की पुलिस तलाश कर रही है। शव का पोस्टमॉर्टम करा परिजनों को सौंप दिया गया। महिला की नौ माह पहले ही शादी हुई थी। जगाधरी एसएचओ मनोज कुमार का कहना है कि बयानों पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

एक लाख रुपए मांगने आए थे, नहीं दिए तो बेटी को घर छोड़कर चले गए थे

  1. कुरुक्षेत्र के गांव किरमिच निवासी सोमलाल ने पुलिस को शिकायत दी है कि उसकी बेटी सोनम ने तेली माजरा निवासी गुलफाम से 27 अक्टूबर 2018 को मुस्लिम रीति रिवाज से शादी की थी। कुछ समय बाद ही उसकी बेटी को दहेज के लिए ससुरालियों ने परेशान करना शुरू कर दिया। कई बार उनकी डिमांड पूरी की।
  2. 10 जून को उसका दामाद, दामाद का भाई और बेटी सोनम उनके घर पर आए थे। तब उन्होंने एक लाख रुपए उससे मांगे। वे उसे यह कहकर गए कि जब एक लाख रुपए का इंतजाम हो जाए तो सोनम को तेली माजरा में लेकर आ जाना, अगर इंतजाम नहीं होता तो अपनी बेटी को यहीं पर रखना। उसने इस बारे में बेटे के ससुर नूर मोहम्मद और सास नवाजो से बात की।
  3. उन्होंने कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती, तब तक वे सोनम को यहां पर नहीं रखेंगे। इस पर उसने कुछ पैसों का इंतजाम कर बेटी को दामाद और उसके भाई मतलूब के साथ भेज दिया। पांच जुलाई रात को बेटी का फोन आया और उसने कहा कि अगर उसके पति,  दामाद, सास और ससुर की मांग पूरी नहीं होती तो ये मुझे मार देंगे।
  4. छह जुलाई को पता चला कि उसकी बेटी को आग में जलने के चलते पीजीआई भर्ती कराया गया है। इस पर वह पीजीआई में गया। वहां पर बेटी ने उसे बताया कि उसे ससुर नूर मोहम्मद और सास नवाजो ने पकड़ा। देवर मतलूब ने मिट्टी का तेल डाला और पति गुलफाम ने आग लगाई।
Loading...

Check Also

राज्यपाल के पास कुमारस्वामी सरकार को बर्खास्त करने का अधिकार

बेंगलुरु. कर्नाटक के मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम में तीन किरदार हैं- मुख्यमंत्री, विधानसभा स्पीकर और राज्यपाल। राज्यपाल ...