Home / हेल्थ &फिटनेस / डायबिटीज़ मरीज़ों के लिए फ़ायदेमंद है कच्चा आम

डायबिटीज़ मरीज़ों के लिए फ़ायदेमंद है कच्चा आम

फलों के राजा आम का हम सबको बड़ी बेसब्री से इंतज़ार रहता है, चाहे वह कच्चा हो या पका. पर कच्चे आम यानी कैरी की बात ही अलग है. कैरी का नाम सुनते ही इसके खट्टे-मीठे स्वाद की वजह से हमारे मुंह में पानी आ जाता है और आए भी क्यों ना? ये होता ही इतना मज़ेदार है. लेकिन यह सिर्फ़ स्वाद में ही मज़ेदार नहीं होता बल्कि सेहत के लिए भी बहुत फ़ायदेमंद है. कच्चे आम का सेवन डायबिटीज़ मरीज़ों के लिए कारगर साबित होता है. कच्चे आम व इसकी पत्तियों में ऐंथोसाइनिन नामक टैनिन होता है, जो शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है.

सेहत से भरपूर कच्चा आम

कच्चा आम कई तरह की बीमारियों से बचने में हमारी मदद करता है और गर्मियों के मौसम में ख़ास कर लू और पेट संबंधी समस्याओं से हमें निजात दिलाता है. इसमें विटामिन ए और सी के अलावा आयरन और कैल्शियम भी भरपूर मात्रा में होता है. यह मैग्नीशियम का भी बढ़िया स्रोत है. कच्चे आम का सेवन पाचन प्र्रक्रिया, त्वचा और बालों के लिए लाभदायक है.

 

कच्चे आम के और भी हैं फ़ायदे 

विटामिन ए और सी का अच्छा स्रोत

आम जितना कच्चा और खट्टा होगा उसमें विटामिन सी की मात्रा उतनी अधिक होगी. विटामिन सी को एक अच्छा ऐंटी ऑक्सिडेंट्स माना जाता जो हमारी रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ शरीर में हर तरह के कैंसर को फैलने से रोकता है. यह दांत व मसूड़ों की सेहत का भी ध्यान रखता है. कच्चे आम में विटामिन-ए की भी अच्छी ख़ासी मात्रा पाई जाती है. विटामिन ए हमारी आंखों की रौशनी को बढ़ाने के लिए फ़ायदेमंद होता है.

हड्डियां होती हैं मज़बूत

शरीर की हड्डियों के मज़बूती के लिए कैल्शियम का सही अवशोषण अहम होता है. कच्चे आम में विटामिन के पाया जाता है. विटामिन के कैल्शियम के अवशोषण (अब्ज़ॉर्प्शन) को दुरुस्त करता है. इसमें कुछ मात्रा में कैल्शियम भी होता है.

 

एनर्जी लेवल रहता है बरकरार

कच्चे आम में आयरन की मात्रा अच्छी होती है जो हमारे शरीर के एनर्जी लेवल को बनाए रखता है. आयरन हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को ठीक रखने में मदद करता है.

बॉडी डीटॉक्स करता है

कच्चा आम, मैग्नीशियम का एक महत्वपूर्ण स्रोत है जो हमारे शरीर से टॉक्सिन निकालकर उसे डीटॉक्स करने में मदद करता है.

पेट की परेशानी से आराम

एसिडिटी की समस्या में कच्चे आम का जूस रामबाण साबित होता है. इसे पीने से गैस, कब्ज़ और अपच जैसी समस्याएं दूर हो जाती हैं.

त्चचा संबंधी समस्याओं से आराम

कच्चे आम में मौजूद पोषक तत्व ख़ून को साफ़ करने के साथ ही ख़ून संबंधी सभी परेशानियों को दूर करते हैं.

लू से बचाव

गर्मियों के मौसम में लू लगना आम परेशानी है, लेकिन इससे बचने का तरीक़ा भी बहुत आसान है. कच्चे आम का पना सन स्ट्रोक और लू लगने पर में फ़ायदेमंद होता है. कच्चे आम का पना बनाएं और धूप से आने के बाद इसका सेवन करें.

पसीने की समस्या पर काबू

गर्मियों के दिनों में रोजाना कच्चे आम के पने का सेवन करने से ज़्यादा पसीना निकलने की समस्या पर क़ाबू पाया जा सकता है.

कच्चे आम को कैसे खाया जाए

कच्चे आम को काट कर बिना नमक या काला नमक छिड़कर खाया जा सकता है. इसमें मसाला मिलाकर सुखाकर भी उपयोग में लाया जा सकता है. इसके अलावा गर्मियों में कच्चे आम से कई तरह की खाद्य सामग्रियां भी बनाई जाती हैं, जिसमें आम पना और आम की मीठी चटनी प्रमुख है. भारत के विभिन्न प्रदेशों में कच्चे आम को अलग-अलग तरह के व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है. जैसे-आम दाल, आम करी, खट्टी आम चटनी, मीठी आम चटनी और आम का अचार आदि.

कच्चे आम के नुक़सान

कच्चे आम का अधिक सेवन आप की सेहत को नुक़सान भी पहुंचा सकता है, इसलिए इसे कम मात्रा में ही खाएं. सोने से ठीक पहले इसे खाने से बचें. अधिक मात्रा में कच्चा आम खाने से गले में जलन, उल्टी, बदहज़मी, पेट दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं. कच्चे आम का सेवन करने से पहले गर्भवती महिलाएं अपने डॉक्टर से ज़रूर सलाह लें कि उन्हें कितनी मात्रा में आम खाना चाहिए.

Loading...

Check Also

कैल्शियम का भंडार है ये दाने, कमजोर हड्डी और जोड़ों के दर्द में दिला सकता है आराम

सफेद मोतियों की तरह दिखने वाला छोटे आकार के साबूदाना जो व्रत और उपवास में ...